NDRF ने 20 राज्यों में 120 टीमों को किया तैनात, बिहार और असम में बाढ़ से हालत बेकाबू

नई दिल्ली: देश के उत्तरी और पूर्वोत्तर हिस्सों में हो रही बारिश के कारण भूस्खलन और बाढ़ से कई राज्यों में आफत आ गई है। वहीं लाखों लोगों को आपदा का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, बाढ़ से बिहार और असम में हालत बेकाबू हो गए हैं। असम में इस आपदा में मंगलवार तक मरने वालों की संख्या बढ़कर 87 हो गई है। वहीं राज्य के 24 जिलों के 24.19 लाख लोग इससे प्रभावित हुए हैं।

इस बीच, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के एक प्रवक्ता ने बताया कि बल ने मानसून में बाढ़ और भारी बारिश की स्थिति से निपटने के लिए 20 राज्यों में 122 टीमों को तैनात किया है। इनमें से 12 टीम असम में हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की दैनिक बाढ़ रिपोर्ट के मुताबिक, मंगलवार को एक व्यक्ति की नगांव जिले में मौत हुई है जबकि दूसरे की मोरीगांव में जान चली गई। उसने बताया कि बारिश और बाढ़ के कारण हुए भूस्खलन की वजह से 26 लोगों की मौत हुई है।

उधर, मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने बताया कि राज्य के पश्चिम गारो हिल्स जिले में बाढ़ में चार बच्चों और एक महिला की मौत हो गई है और 1.52 लाख लोग प्राकृतिक आपदा से प्रभावित हैं। उन्होंने मृतकों के परिजनों के लिए चार लाख रूपये के मुआवजे का ऐलान किया।

असम में मदद करने को तैयार संयुक्त राष्ट्र
संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र बाढ़ग्रस्त असम में राहत कार्यों के लिए मदद की दरकार होने पर भारत सरकार की सहायता के लिए पूरी तरह तैयार है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा, ‘हमारे सहयोगियों ने बताया है कि भारत में असम और पड़ोसी देश नेपाल में मानसून की बारिश के कारण आई बाढ़ के कारण 2254 गांवों के करीब 40 लाख लोग बेघर हो गए हैं और 189 लोगों की जान गई है।’ साथ ही एक लाख हेक्टेयर से अधिक भूमि में फसल नष्ट हो गई है। उनहोंने कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र जरूरत पड़ने पर भारत सरकार की मदद को तैयार है।’ विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) असम और नेपाल में प्रभावित समुदायों तक पहुंचने की कोशिश कर रहा है।

बिहार में वज्रपात से 17 लोगों की जान गई
बिहार में मंगलवार को बारिश के दौरान वज्रपात से 17 लोगों की मौत हो गयी। मरनेवालों में बांका के छह ,बिहारशरीफ के चार, जमुई के तीन,बोधगया के दो और लखीसराय व नवादा के एक-एक व्यक्ति शामिल हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वज्रपात में मारे गए लोगों के प्रति दुख जताया है। उन्होंने अविलंब मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपये अनुग्रह अनुदान देने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा की इस घड़ी में वे प्रभावित परिवारों के साथ हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper