चारा घोटाला में बिहार के मुख्य सचिव को नोटिस, विपक्ष का नीतीश कुमार पर वार 

दिल्ली ब्यूरो : बिहार का चारा घोटाला कितने को  खायेगा कहना मुश्किल है। इस घोटाले ने जहां दर्जनों नेता अधिकारी जेल की हवा खा रहे हैं वही राज्य के मुख्या सचुव भी फास्ट जा रहे हैं। झारखण्ड के पूर्व मुख्य सचिव  सजल चक्रवर्ती भी इस घोटाले के किरदार बने और जेल में गए हैं। अब बिहार के वर्तमान मुख्य सचिव अंजनी कुमार भी चारा घोटाला में फसते नजर  आ रहे हैं। रांची की सीबीआई अदालत ने बिहार के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह नोटिस जारी किया है।
बता दें कि अंजनी कुमार सिंह चारा घोटाला के दौर में दुमका के डीएम हुआ करते थे। अभी इस मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है और माना जा रहा है कि इस पर फैसला 15 मार्च को आएगा। लेकिन फैसला जो भी आये अभी बिहार की राजनीति मुख्य सचिव को लेकर आक्रामक हो गयी है।
बिहार विधानमंडल में मुख्य विपक्षी पार्टी के नेताओं ने मुख्य सचिव की हटाने की मांग को लेकर सरकार को घेरा है।  पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी समेत अन्य राजद नेताओं ने मुख्य सचिव को हटाने और कार्रवाई करने की मांग की। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने बिहार के मुख्य सचिव अंजनी सिंह पर कार्रवाई की मांग करते हुए कहा कि अब मुख्यमंत्री की अंतरात्मा क्यों नहीं जाग रही है।
चारा घोटाले में शिवानंद तिवारी, राजबाला वर्मा, जैसे कई लोगों के नाम सामने आये हैं।  अन्य लोगों पर भी कार्रवाई हो. लालू यादव को बेवजह फंसाया गया है।  राजद के शक्ति यादव ने कहा कि मुख्य सचिव अंजनी कुमार पर आरोप लगने के बावजूद सरकार चुप्पी साध कर बैठी है।  जल्द से जल्द अंजनी कुमार सिंह को हटाया जाना चाहिए।  वहीं, राजद के भोला यादव ने कहा कि लालू प्रसाद को तत्कालीन जिलाधिकारी रहे लोगों ने फंसाया है।  इसलिए अब कोर्ट इन बिंदुओं पर जांच कर रहा है।
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper