पीएम मोदी रविवार को करेंगे ‘मन की बात’, ऐसे भेज सकते हैं सुझाव

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को ‘मन की बात’ के जरिए लोगों को संबोधित करेंगे. मोदी के पिछले साल दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद उनका यह 14वां ‘मन की बात’ कार्यक्रम होगा. ओवरऑल यह 67वां ‘मन की बात’ कार्यक्रम है. पीएम मोदी इस कार्यक्रम के जरिए लोगों के साथ संवाद करते हैं. पिछले दिनों प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके इस कार्यक्रम में चर्चा के लिए लोगों से अपने विचार मांगे थे. कोरोना संकट की वजह से लगे लॉकडाउन और अनलॉक के दौर में प्रधानमंत्री का यह पांचवां ‘मन की बात’ कार्यक्रम है और वह रविवार सुबह 11 बजे लोगों को संबोधित करेंगे

सुझाव साझा करें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 11 जुलाई को ट्वीट कर कहा था, “मैं इस बात को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त हूं कि आप लोग सामूहिक प्रयास से आने वाले सकारात्मक बदलाव की कहानियों से परिचित होंगे. आप निश्चित रूप से ऐसी कहानियों को जानते होंगे, जहां सकारात्मक पहल ने लोगों की जिंदगी बदल दी है. आप ऐसी कहानियों और प्रयासों को इस महीने 26 जुलाई को प्रसारित होने वाले ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए कृपया शेयर करें.”

पीएम मोदी ने अपने विचारों को उन तक पहुंचाने के लिए जनता को माध्यम भी बतलाया. प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘मन की बात’ कार्यक्रम के लिए अपने विचार साझा करने के कई तरीके हैं. आप 1800-11-7800 पर कॉल करके अपना संदेश साझा कर सकते हैं या फिर आप अपने विचार को नमो ऐप पर मौजूद प्लेटफॉर्म पर डाल सकते हैं. या चाहे तो MyGov पर लिख सकते हैं.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 जून को ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए लोगों को संबोधित किया था. इस दौरान पीएम ने चीनी घुसपैठ, लॉकडाउन, अनलॉक-1 का जिक्र किया था.

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने आखिरी ‘मन की बात’ कार्यक्रम में कहा था, ‘भारत की तरफ आंख उठाकर देखने वालों को करारा जवाब मिला है. अगर भारत दोस्ती निभाना जानता है तो आंख में आंख डालकर उचित जवाब देना भी जानता है.’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper