पीएनबी का खुलासा -नीरव ने 13 सौ करोड़ का एक और फ्रॉड किया 

दिल्ली ब्यूरो : शातिर नीरव मोदी ने पीएनबी के साथ एक और बड़ा फ्रॉड किया है। उसने 1300 करोड़ का फ्रॉड ट्रांजैक्शन कर पीएनबी को भारी चुना लगाया है। इस फ्रॉड की जानकारी खुद पीएनबी ने ही दी है।
इस तरह से नीरव ने पीएनबी में अभीतक के दस्तावेज के मुताविक कुल 12700 करोड़ रुपये का घोटाला किया है। नीरव के बड़े खेल को देखते हुए मनी लॉन्ड्रिंग रोधक कानून (पीएमएलए) अदालत ने सोमवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को हजारों करोड़ों का घपला करने वाले हीरा व्यापारी नीरव मोदी की संपत्ति के बारे में जानकारी हासिल करने और सीज करने के मामले में 6 देशों को अनुरोध पत्र (एलआर) भेजने की इजाजत दे दी है।
ईडी का कहना था कि इस मंजूरी के बाद उसे हॉन्गकॉन्ग, अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, दक्षिण अफ्रीका और सिंगापुर में अवैध कमाई जब्त करने और दस्तावेज तथा सबूत जुटाने में मदद मिलेगी।  सीबीआई ने 31 जनवरी को नीरव मोदी और उसकी कंपनियों तथा एक अन्य आभूषण कारोबारी मेहुल चौकसी के खिलाफ प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की थी।  बाद में प्रवर्तन निदेशालय ने भी इस मामले की जांच शुरू की। मामले में हुई लगातार छापेमारी के बाद नीरव मोदी ने पीएनबी को खत लिखकर कहा था कि कार्रवाई से उसके बिजनेस को काफी नुकसान पहुंचा है, इसलिए वह रकम वापस नहीं दे सकता है।
हालांकि, पीएनबी ने जवाबी खत लिखते हुए कहा था कि जो भी कार्रवाई हुई है वह कानूनी तौर पर सही है और वह ठोस तरीके को बताएं जिसके तहत वो पैसा वापस लौटाएंगे।  गौरतलब है कि जब से मामले का खुलासा हुआ है तभी से ईडी, सीबीआई की कार्रवाई जारी है।  ईडी अभी तक 5000 करोड़ से अधिक की चल-अचल संपत्ति जब्त कर चुका है।
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper