हिंदू होने पर गर्व, भाजपा ‘पाखंड’ नहीं कर सकती : योगी

द लखनऊ ट्रिब्यून ब्यूरो : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा में कहा कि हिंदू होने पर गर्व की अनुभूति होना कोई बुरी बात नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा जो अंदर है, वहीं बाहर है और वह ‘पाखंड’ नहीं कर सकती। विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा के जवाब में योगी ने कहा, ”मुझसे एक पत्रकार ने पूछा था कि आपने दीपोत्सव अयोध्या में मनाया, होली मथुरा में मनायी. ईद कहां मनायेंगे। मैंने कहा कि मैं ईद नहीं मना पाऊंगा। मैं अपनी संस्कृति और परंपरा के अनुरूप ईद नहीं मनाता, लेकिन शांतिपूर्वक कोई ईद मनायेगा तो सरकार सहयोग करेगी और सुरक्षा देगी।”

योगी ने विपक्षी दलों पर प्रहार करते हुए कहा, ”अवसरवादी बनकर घर में बैठकर जनेऊ लगाएंगे और बाहर जाएंगे तो टोपी लगाएंगे। ये कौन सा पाखंड है। ये पाखंड भाजपा नहीं कर सकती।” योगी ने कहा कि हमारे पास धार्मिक पर्यटन की प्रचुर संभावनाएं हैं। काशी हमारे पास है। अयोध्या पर कौन गौरव की अनुभूति नहीं कर सकता। सपा-बसपा की सरकारें अयोध्या को बिजली नहीं देते थे। काशी में काम नहीं करने देते थे। मथुरा में विकास योजनाओं को अवरूद्ध कर दिया था। अयोध्या में रामलला की परंपरा, चित्रकूट में कीर्तन की परंपरा बंद करा दी थी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में तीर्थाटन एवं पर्यटन की ढेरों संभावनाएं उत्तर प्रदेश में हैं। पर्यटन और तीर्थाटन की जितनी संभावना उत्तर प्रदेश में है, इसमें दस गुना वृद्धि की जा सकती है। उन्होंने कहा कि सपा-बसपा ने राज्य की संस्थाओं को, चाहे परपंरागत उत्पाद हों, हस्तशिल्प हो या पर्यटन की संभावना हो, उनकी भ्रूणहत्या करने का प्रयास किया है। उत्तर प्रदेश को बदनाम किया है, लेकिन पिछले 11 महीने में अवधारणा बदली है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper