दीनदयाल रसोई: जहां गरीबों को 5 रूपये में मिल रहा भरपेट भोजन

नरसिंहपुर: राज्य सरकार द्वारा लागू की गई दीनदयाल रसोई योजना गरीब और जरूरतमंद लोगों के लिए उपयोगी साबित हो रही है। नरसिंहपुर जिले में दीनदयाल रसोई में जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए भरपेट एवं स्वादिष्ट भोजन केवल 5 रूपये में मिल रहा है। जिले में शुरू से ही यह योजना सफलता पूर्वक चल रही है। जिले की दीनदयाल रसोई प्रदेश की सबसे सफल दीनदयाल रसोई में से एक है।

जहां समाजसेवियों के सहयोग से बहुत ही कुशलता पूर्वक रसोई का संचालन किया जा रहा है। अब तक इस रसोई में लगभग 2 लाख व्यक्ति भोजन कर चुके हैं। इससे समाजसेवी लोग जुड़े हुये हैं, जो सेवाभाव के साथ गरीबों को भोजन कराते हैं। प्रतिदिन पूर्वान्ह 11 बजे से अपरान्ह 3 बजे तक गरीबों को भोजन कराया जाता है। प्रतिदिन यहां 600 से लेकर 700 जरूरतमंद व्यक्ति भोजन करते हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की पहल पर यह योजना शुरू की गई थी।

इसे भी पढ़िए: दुनिया को अपने आंचल में समेटती जा रही है हमारी राजभाषा हिंदी

दीनदयाल रसोई योजना जिन उद्देश्यों को लेकर शुरू की गई थी, उन उद्देश्यों की पूर्ति में सफल रही है। पहले इस योजना का संचालन समाज सेवी संस्था रोटरी क्लब के सहयोग से किया गया। इसके पश्चात अब यह योजना शिक्षण एवं सामाजिक संस्था प्रयास के सहयोग से संचालित की जा रही है। समाज सेवी संस्था के सदस्य मानवीय दृष्टिकोण के साथ कार्य करते हैं।

नरसिंहपुर जिले में दीनदयाल रसोई योजना अस्पताल परिसर में संचालित की जा रही है। अस्पताल परिसर में संचालित होने से जिले के दूर- दराज से इलाज के लिए मरीज को लेकर आये परिजनों को भोजन की सुविधा मिल जाती है। इसके अलावा यहां दूर- दराज से मजदूरी करने के लिए आने वाले लोगों और स्थानीय दिहाड़ी मजदूरों को भी भोजन मिलता है। यह सुविधा उन्हें 5 रूपये में भरपेट भोजन के रूप में मिलती है। भोजन की गुणवत्ता अच्छी रहती है।

समय- समय पर कलेक्टर और अन्य अधिकारियों द्वारा रसोई का भ्रमण किया जाता है। यहां पर जनप्रतिनिधियों का भी आना- जाना रहता है। सभी का सहयोग मिलने से योजना अच्छी तरह से संचालित हो रही है। अब तो जिले के लोग अपने परिजनों की स्मृति में भी गरीबों को भोजन कराते हैं। यहां पर बच्चों एवं बड़ों के जन्मदिन पर भी लोगों को भोजन कराया जाता है। जिले के लोगों की यह अभिनव पहल है।

यह भी देखें: पीएम मोदी ने मांगी देशी चाय, किरण रिजिजू ने दे डाली यह सलाह

दीनदयाल रसोई में वर्तमान में प्रयास संस्था का सक्रिय सहयोग मिल रहा है। संस्था के प्रमुख विक्रांत पटैल यहां प्रतिदिन प्रात: 9 बजे पहुंच जाते हैं और अपनी देखरेख में भोजन तैयार करवाते हैं। वे भोजन की गुणवत्ता को परखते हैं और साफ- सफाई पर विशेष ध्यान देते हैं। साथ ही रसोई की निरंतर निगरानी करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper