SI पिता DSP बेटी को मारते हैं सैल्यूट, घर आकर बेटी के हाथ का ही करते हैं भोजन, एक ही पुलिस थाने में हैं तैनात

आज भारत की बेटी दुनिया में हर फील्ड में अपना दमखम दिखाती हुई नजर आ रही है चाहे वो स्पोर्ट्स हो, सेना हो, पुलिस हो या सिविल सर्विस हर क्षेत्र में लडकिया अपने माँ बाप और देश का नाम रोशन करती नजर आ रही है. इसी के चलते आज हम एक ऐसी ही कहानी आपको बताने वाले है जिसमे एक पिता और उसकी पुत्री एक ही थाने में ड्यूटी करते है लेकिन उस बाप के लिए गर्व की बात तो ये हो जाती है जब एक सब इंस्पेक्टर पिता अपनी लड़की को उप पुलिस अधीक्षक के पद की हैसियत से सैल्यूट मारता है, क्योंकि दोनों पिता और बेटी एक ही थाने में तैनात हैं। तो चलिए जानते है इस रोचक और दिल को ख़ुशी देने वाली इस कहानी के बारे में विस्तार से..

बेटी को उप पुलिस अधीक्षक के पद पर देख गर्व महसूस करते है पिता:- जब पिता अपनी ही बेटी को सैल्यूट मारते समय गर्व महसूस करता है तो उनकी यही लाडली बेटी घर जाकर अपने हाथों से खाना बनाती है और अपने पिता को खिलाती है। आप आपके मन में भी आया होगा की ऐसे कैसे हो सकता है की दोनों की ड्यूटी एक ही थाने में लगाईं गई. तो आपको बता दे की इन दोनों की एक ही जगह पोस्टिंग होने के पीछे का कारण है लॉकडाउन था।

SI पिता DSP बेटी को करते है डेली सैल्यूट:- ये कहानी देश के मध्य प्रदेश राज्य के सीधी जिले के मझौली थाने के सब इंस्पेक्टर अशरफ अली और उनकी बेटी उप पुलिस अधीक्षक शाबेरा अंसारी की। और ये पिता और बेटी एक ही पुलिस थाने में कार्यरत हैं। पिता सब इंस्पेक्टर के पोस्ट पर हैं तो उनकी बेटी डीएसपी के पोस्ट पर है और इसी कारण हर रोज़ पिता को थाने में अपनी बेटी को ही सैल्यूट मारना पड़ता है।

पिता और पुत्री मध्य प्रदेश राज्य में हैं कार्यरत:- आपको बताये की अशरफ अली मूल रूप से उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के रहने वाले हैं। लॉकडाउन के पहले से ही वो मध्यप्रदेश के इंदौर जिले के लसूड़िया थाने में सब इंस्पेक्टर के पद पर अपनी सेवा दे रहे थे। वही दूसरी तरफ अशरफ अली की बेटी शबेरा अंसारी प्रशिक्षु डीएसपी के पद पर रहते हुए सीधी जिले के आदिवासी बाहुल्य पुलिस थाना मझौली में प्रभारी के रूप में कार्यरत हैं।

लॉकडाउन में फंस गए थे पिता:- पिछले दिनों एसआई अशरफ अली बलिया गए थे। जब वह इंदौर डयूटी पर लौट रहे थे तब वह अपनी बेटी से मिलने सीधी जिले पहुँच गए और इसी दौरान COVID 19 के कारण पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा क्र दी गई। जिसके चलते अशरफ अली को अपनी बेटी के पास ही रुकना पड़ा। तब लॉकडाउन लंबा होने के कारण पुलिस मुख्यालय ने उन्हें वहीं के स्थानीय थाने मझौली में ही ड्यूटी करने का आदेश दे दिया।

दोनों 20-20 घंटे की करते है ड्यूटी:- आपको बताये की जिस मझौली पुलिस थाने में उनकी ड्यूटी लगाई गई उस पुलिस थाने की इंचार्ज कोई और नहीं बल्कि उनकी बेटी शाबेरा अंसारी ही है। ऐसे में पिता-बेटी एक ही पुलिस थाने में अपनी-अपनी सेवाएँ दे रहे हैं। एक कोरोना वॉरियर्स के रूप में दोनों कोरोना वायरस के खिलाफ मोर्चा संभाल रहें है। दोनों बाप बेटी बीस-बीस घंटे की ड्यूटी करते हैं।

बेटी एसआई के पद पर भी हो चुकी है चयनित:- बताया गया है की शाबिरा अंसारी 2013 में ही सब इंस्पेक्टर के पद पर चयनित हुई थी। वह मध्य प्रदेश पुलिस में एसआई थी। उसके बाद 2016 में अपनी सेवा देने शुरू कर दी थी। लेकिन एसआई (SI) बनने के साथ-साथ वह पीएससी की तैयारी में भी लगी रहती थी। आखिरकार SI पिता की बेटी की मेहनत रंग लाई और 2016 में शाबिरा अंसारी पीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण कर ली और डीएसपी के रूप में उनका 2018 में चयन हो गया। शाबिरा दिसम्बर 2019 से प्रशिक्षण पर है। फिलहाल दोनों पिता पुत्री एक साथ काम करके अपनी-अपनी नौकरी का मज़ा ले रहे हैं।

सोशल ज्ञान से साभार

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper