बीमारी हैं खर्राटे, जानिये कैसे पायें छुटकारा

अक्सर आपने देखा होगा कि लोग सोने के बाद ही तेज-तेज आवाज में खर्राटे लेने लगते हैं। अक्सर लोग इसे हल्के में लेते हैं, लेकिन अगर कोई भी खर्राटे लेता है तो वह बीमारी से पीड़ित है। दरअसल, दिनभर की थकान के बाद 6 से 8 घंटे की नींद लेना जरूरी होता है। इससे शरीर को आराम मिलता है और अगले दिन की शुरुआत नई ऊर्जा के साथ होती है।

लेकिन, कई बार कुछ कारणों के चलते नींद पूरी नहीं होती, जिसमें प्रमुख कारण है, खर्राटे। हालांकि खर्राटे लेने वाला व्यक्ति तो अपनी नींद पूरी कर लेता है, लेकिन वह अपने आसपास सो रहे लोगों को नहीं सोने देता। यही वजह है कि जब बिस्तर पर आपका साथी या परिवार का कोई सदस्य जोर-जोर से खर्राटे ले रहा हता है तो आपको पूरी रात जागना पड़ता है। आइए हम आपको बताते हैं कि कुछ घरेलू उपाय करके भी आप खर्राटे जैसी बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं।


खर्राटों से बचने के लिए रात के समय आपको अपने खानपान में कुछ बदलाव करना होगा। खासतौर पर कुछ चीजों से परहेज करना होगा, ताकि आपकी श्वास नली में किसी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न न हो और वायु का आवागमन ठीक ढंग से हो सके। इससे खर्राटे लेने की समस्या खत्म हो जाती है।

रात के वक्त क्या खाएं और क्या न खाएं
अगर आपने अपनी रात की डाइट को ठीक कर लिया तो फिर खर्राटे की बीमारी से छुटकारा पाना आपके लिए आसान हो जाएगा। इसीलिए रात के वक्त डेयरी उत्पाद, मैदे की बनी हुई तथा मीठी चीजें, अत्यधिक चॉकलेट, अधिक तेल मसाले से बने पदार्थ, तली हुई चीजें भूलकर भी न खाएं। इस तरह की चीजें नहीं खाने से आपकी श्वास नली से सांस खुलकर जाएगी और खर्राटों की समस्या से निजात मिलेगी।

खर्राटों को दूर करने की दवा
खर्राटों को दूर भगाने के लिए एक ऐसी दवा है, जो आपकी नाक और फेफड़ों को साफ रखेगी। इससे आपको भरपूर नींद आएगी और खर्राटों की समस्या दूर होगी। इसके लिए आप चार गाजर, एक सेब, नींबू और अदरक को एक साथ पीसकर इसका जूस बना लें। अप इस जूस को रोज दिन में कम से कम एक बार पीएं। बस फिर देखिए कैसे आप खर्राटों को बाय-बाय कर चैन की नींद ले सकेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper