यूपी में लड़के को दिल दे बैठी बेटी को भाई और पिता ने जिंदा दफनाया

लखनऊ : जिस पिता की अंगुली पकड़ कर चलना सीखा, जिसकी पीठ पर बैठकर घुड़इयाँ- घुड़इयाँ खेली, उन्हीं लोगों ने अपनी झूठी शान बचाने के चक्कर में बेरहमी से बेटी और बहन को गोली मार दी। और तो और, बाप-भाई उसे तड़पते हुए देखते रहे और जब वो मर गई तो उसे रात में ले जाकर गड्ढे में गाड़ दिया। मामला यूपी के अंबेडकर जिले का है। एसपी संतोष मिश्रा के मुताबिक, मामला ऑनर किलिंग का है। बाप-भाई ने मिलकर लड़की को गोली मारी और उसे जिंदा दफना दिया।

बाप-बेटे ही बने जान के दुश्मन

पुलिस के मुताबिक, मामला अंबेडकरनगर जिले के जहांगीर गंज थाना क्षेत्र के बसहिया गांव का है। यहां की रहने वाली दीपांजलि (16) लड़के से प्यार करती थी और घर में विरोध के चलते भाग गई। जब वो 10 दिन बाद घर लौट कर आई तो घरवालों ने अपमान का बदला लेने के लिए एक खौफनाक योजना बना डाली।बुधवार रात में पिता-भाई विकास सिंह ने दीपांजलि की गोली मार कर हत्या कर दी और शव को छुपाने के लिए गांव के सूनसान जगह पर गड्ढे में गाड़ दिया।

जानिए पुलिस अधिकारी को क्यों नहीं आयी नींद ?

एसपी के मुताबिक दीपांजलि के घर से भाग जाने के बाद भाई विकास सिंह ने गांव के ही चार लोगों के खिलाफ उसके मर्डर का केस दर्ज कराया था। पुलिस ने इस मामले में जांच करते हुए 19 दिन बाद ही दीपांजलि को बरामद कर घर पहुंचा दिया, लेकिन दूसरे ही दिन दोबारा घर से दीपांजलि के गायब होने की सूचना पुलिस को मिली। जांच के दौरान पुलिस को शक हुआ तो घरवालों से पूछताछ की गई। इसके बाद दीपांजलि के भाई विकास ने जो बताया वो सुनकर हम भी शॉक्ड हो गए और पूरी रात मैं सो नहीं पाया।

भाई ने खोला राज

भाई ने बताया कि दीपांजलि के घर से भाग जाने से हम लोग बहुत अपमानित महसूस कर रहे थे। इसीलिए उसे रस्ते से हटाने के लिए पापा और हमने मिलकर उसे गोली मार दी।वो वहीं तड़पती रही और हम उसे देखते रहे। वो मरी नहीं थी और हमने उसे गांव के बाहर गड्ढे में गाड़ दिया। पुलिस ने विकास की निशानदेही पर गड्ढे से शव और तमंचे को बरामद कर उसे जेल भेज दिया है। खुलासा होने पर पूरा परिवार घर छोड़ फरार हो चुका है। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper