तो भारत में यहां रहते हैं सबसे ज्यादा अमीर लोग?

नई दिल्ली: बड़ी जनसंख्या वाली राजधानी दिल्ली में अमीर गरीब हर तबके के लोग रहते हैं। भले ही दिल्ली में बसी बस्तियों, टूटी सड़कों को देखकर ये लगता हो कि दिल्ली में गरीबी है। लेकिन यहां अमीरों की भी कमी नहीं है। देश के सबसे ज्यादा अमीर यहीं रहते हैं। यह हम नहीं कह रहे बल्कि एक सरकारी सर्वे में यह आंकड़ा सामने आया है कि दिल्ली के शहरी इलाकों में सबसे ज्यादा अमीर रहते हैं। यह सर्वे केंद्र सरकार की नेशनल फैमिली और हेल्थ सर्वे ने किए हैं।

इस सर्वे में यह भी सामने आया है कि दिल्ली के अलावा पंजाब के शहरी इलाकों में भी सबसे ज्यादा अमीर रहते हैं। जबकि बिहार का स्थान सबसे नीचे है। इस सर्वें में करीब 6 लाख परिवारों को शामिल किया गया है। परिवारों को सामाजिक और आर्थिक आधार पर शामिल किया था। इस बार इसमें लोगों की संपत्ति के अलावा राज्य की जनसंख्या, धर्म और जाति को भी शामिल किया गया है। सूत्रों के अनुसार दिल्ली और पंजाब के शहरी इलाकों में रहने वाले लोग सबसे ज़्यादा अमीर हैं।

आंकड़ों के अनुसार यहां रहने वाले करीब 60 प्रतीशत लोगों के पास अपना मकान है। बिहार की हालत बेहद खराब है। बिहार इसमें सबसे निचले स्थान पर मौजूद है। बिहार में आधे से ज्यादा लोगों के पास अपना घर तक नहीं है। जनवरी माह जैसे ही शुरू होता है, तो सरकार भी अपनी योजनाओं को बनाने में जुट जाती है।

यह भी देखें: स्त्री-पुरुष मर्ज़ी से करे शादी, कोई खाप पंचायत आड़े नहीं आ सकती: सुप्रीम कोर्ट

देश के विकास के लिए सरकार को योजनाएं बनानी होती हैं। जिसके लिए उसे कई तरह के आंकड़ों की भी आवश्यकता होती है। इन आंकड़ों के लिए विभिन्न सर्वे एजेंसियां सर्वे कराती हैं। नैशनल फैमिली और हेल्थ सर्वे ने भी इसी क्रम में लोगों से जुड़े कुछ आंकड़े प्रकाशित किये हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper