UK में वैक्सीनेशन के बावजूद भी मंडराया कोरोना की तीसरी लहर का खतरा

नई दिल्ली: दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप अभी जारी है। लेकिन यूनाइटेड किंगडम (यूके) में कोरोना वयरस की तीसरी लहर का खतरा मंडराने लगा है। यूके में कोरोना वायरस के नये मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, देश में ये बढ़ोतरी B.1.617.2 वैरिएंट के कारण हो रही है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जानकारों का कहना है कि नया वैरिएंट यूके में तीसरी लहर का खतरा पैदा कर सकता है। डराने वाली बात यह है कि वैक्सीनेशन कवरेज के बाद ये वैरिएंट तेजी से फैल रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, यूके में अब तक 3.8 करोड़ लोगों को वैक्सीन सिंगल डोज दी जा चुकी है। जोकि वहां की युवा आबादी का 70 प्रतिशत और कुल आबादी का 58 प्रतिशत है।

जानकारी के अनुसार, 2.4 करोड़ लोग वैक्सीन को डबल डोज दी जा चुकी है। इसके बाद दो सवाल खड़े हो गए हैं। 1- क्या वैक्सीन भी कोरोना को रोकने में नाकाम है? 2- दूसरा ये कि क्या वैक्सीनेशन पिछली लहरों की तुलना में इस लहर को अलग बना सकता है? यूके में B.1.617.2 वैरिएंट काफी तेजी से फैल रहा है। जिस कारण मरीजों की संख्या अस्पतालों में बढ़ रही है। पूरे यूके में बीते एक हफ्ते में अस्पतालों में भर्ती होने वाली मरीजों की संख्या 20 प्रतिशत बढ़ गई है।

डॉ. वत्स ने कहा कि बुजुर्गों में संक्रमण कम फैल रहा है क्योंकि उन्हें कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज दी जा चुकी हैं। ये सही है कि अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ोतरी हो रही है। लेकिन यह पिछली बार की तुलना में कम है। यूके में जिन जगहों पर संक्रमण बढ़ रहा है, वहां भी कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या में 60 से 70 प्रतिशत की कमी आई है और अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या भी घटी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper