यूपी: गेस्ट हाऊस की दीवारों पर लगाए गए विवादित पोस्टर, पुलिस महकमें में मची अफरा तफरी

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के वीवीआईपी गेस्ट हाउस की दीवार पर मंगलवार को विवादित पोस्टर लगाए गए हैं। पीएम मोदी, सीएम योगी, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य समेत कई वीवीआईपी की फोटो इन पोस्टरों में लगने से पुलिस महकमें में अफरा तफरी मच गई। हालांकि पुलिस को जानकारी मिलते ही विवादित पोस्टर को हटा दिया गया। पुलिस बिना नाम के लगाए पोस्टर को लगाने की तलाश में जुट गई है।

दरअसल, 69 हजार सहायक शिक्षक भर्ती और पशुधन विभाग में टेंडर घोटाले को लेकर पोस्टर लगाए गए थे। सोशल मीडिया और जैसे ही मंगलवार सुबह विवादित पोस्टर के साथ फोटो वीडियो वायरल हुआ अधिकारियों में हड़कम्प मच गया। हालांकि इन 10 विवादित पोस्टरों में पोस्टर लगाने वाले का नाम नहीं लिखा है। विवादित पोस्टर में दो घोटालों का जिक्र किया गया है। पशुपालन विभाग में हुए टेंडर घोटाले का जिक्र करते हुए इसके आरोपियों के साथ सीएम योगी की फोटो दिखाई गई है।

इस पोस्टर में शिक्षक भर्ती घोटाले का भी जिक्र किया गया है, जिसमें पीएम मोदी, यूपी के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह और संगठन मंत्री सुनील बंसल के चित्र भी शामिल हैं। हालांकि इसमें भी सीएम योगी के चित्र का प्रयोग किया गया है। इस बीच यह मामला जैसे ही पुलिस के संज्ञान में आया तत्काल पोस्टर हटवा दिए गए। 69 हजार सहायक शिक्षक भर्ती और पशुधन विभाग में टेंडर मामले में पुलिस के द्वारा कई आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है।

दरअसल, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पशुधन विभाग के कैबिनेट मंत्री के निजी सचिव और राज्‍य मंत्री के कार्यालय में तैनात एक अधिकारी की मिलीभगत से करोड़ों का फर्जीवाड़ा उजागर हुआ है। इस मामले में लखनऊ पुलिस ने 11 नामजद आरोपियों में से सात आरोपियों आशीष, रजनीश दीक्षित, एके राजीव, धीरज, रूपक राय, उमाशंकर तिवारी और अनिल राय को गिरफ्तार कर लिया है। एफआईआर दर्ज होने के 12 घंटे के अंदर 7 जालसाज दबोचे गए हैं।

एफआईआर में नामजद बाकी फरार आरोपियों की तलाश की जा रही है। इस फर्जीवाड़े में तथाकथित पत्रकारों समेत कुल 11 लोगों के खिलाफ हज़रतगंज कोतवाली में एफआइआर दर्ज कराई गई है। इनमें एक मंत्री के निजी सचिव और कार्यालय में तैनात एक कर्मचारी भी शामिल है। एसटीएफ ने छानबीन के दौरान मामले को सही पाया। इसके बाद मंजीत की तहरीर पर हजरतगंज कोतवाली में शनिवार देर रात एफआइआर दर्ज की गई थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper