यूपी इन्वेस्टर्स समिट, उम्मीदों की झप्पी

मेहरबान,
आप सभी उद्योगपतियों, निवेशकों का उत्तर प्रदेश हृदय से स्वागत करता है। आपके आगमन की खुशी में हर कोई खुश है। आप सब से गले लगने के लिए, हम सभी प्रदेशवासी बेकरार हैं। सबकी इकलौती ख्वाहिश है कि आप सब भी हम सबको अपना लें। हम पर भी विकास की नजर-ए-इनायत कर दें। आप राज्य के 75 जिलों में से, जिस किसी भी जिले में चाहें उद्योग लगायें, कारखाना लगायें, कम्पनियां खोलें या किसी भी किस्म का औद्योगिक पार्क विकसित करें, आपकी राह में किसी भी प्रकार की अड़चन नहीं आने दी जाएगी।

यकीन कीजिये, पूरे प्रदेश में कानून-व्यवस्था का राज पूरी तरह से कायम है। यकीन मानिये, प्रशासनिक मशीनरी आपके हर कदम अनुकूल ही मिलेगी। आपके सामने, जो भी असुविधाएं आएंगी, वे उसे हर हाल में आसान करेंगे। किसी भी उद्योगपति या निवेशक को किसी भी प्रकार की दिक्कत न उठानी पड़े, इसी लिए सरकार ने मेक इन यूपी विभाग और बेहतर कानून व्यवस्था के लिए औद्योगिक क्लस्टर व क्षेत्र में समर्पित पुलिस जवानों को तैनात करने का निर्णय लिया है।

और हां, मनचाही जमीन की भी कोई कमी नहीं है। सरकार ने पहले से ही हर जिले में बंजर या परती 5०० एकड़ जमीनें चिन्हित कर ली हैं। यही नहीं, सरकार ने एनसीआर (नेशनल कैपिटल रीजन) में पांच और जिले शामिल कर दिये हैं। ये जिले हैं मथुरा, शामिली, बिजनौर, सहारनपुर और अलीगढ़। इस दायरे में पहले से ही गाजियाबाद, मेरठ, हापुड़, बुलंदशहर, गौतमबुद्ध नगर, मुजफ्फनगर और बागपत शामिल हैं। सरकार ने एनसीआर का दायरा इसलिए बढ़ाया, क्योंकि कुछ उद्योगपति एनसीआर में ही उद्योग लगाना पसंद करते हैं, क्योंकि ये राष्ट्रीय राजधानी के करीब होते हैं।

राज्य में बिजली की प्रॉब्लम भी नहीं है। रेल सेवा व रोड्स भी ठीक-ठाक हैं। दूसरे राज्यों से वे पहले ही जुड़ी हैं, जिला दर जिला भी जोड़ दी गई हैं। खास बात यह कि वेस्टर्न और ईस्टनã डेडीकेट फ्रेट कॉरिडोर तैयार हैं। इसलिए माल ढुलाई में भी कोई अड़चन नहीं आने वाली। मौजूदा हवाई सेवा भी ठीक है। भविष्य में इसे और बेहतर बनाने के लिए गौतमबुद्ध नगर के जेवर में नया एयरपोर्ट बनाने की तैयारी है। राज्य के प्रमुख जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने का प्रयास भी जारी है। यह सब आपके लिए है।

मेहरबानों, हमारे रहनुमा योगी जी, तो आप में से कई प्रमुख उद्योगपतियों जैसे रतन टाटा, मुकेश अंबानी, हिंदुजा बंधु, दिलीप सांघवी, पवन गोयनका, टोरंट के सुधीर मेहता आदि से पिछले वर्ष 22 दिसम्बर को ही मुम्बई में मिलकर यूपी में निवेश करने के लिए न्यौता दे आये हैं। आप सभी को यकीन दिला चुके हैं कि कानून-व्यवस्था से लेकर आपको किसी भी प्रकार की दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। वहां से लौटने के बाद वह लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में 21 व 22 फरवरी को होने वाली यूपी इन्वेस्टर्स समिट-2०18 के लिए लखनऊ को आपके स्वागत में सजाने में व्यस्त हो गये थे। क्या खूब सजाया है योगी जी ने, आप जरूर कहेंगे, यह हम सबका विश्वास है।

हमारे मुख्यमंत्री जी, जब मुम्बई के नरीमन प्वाइंट स्थित होटल ट्राइडेंट में आप सब से मुलाकात कर लौटे थे, तो उनके चेहरे पर आप द्वारा यूपी के विकास में दिखाई गई दिलचस्पी की प्रसन्नता थी। हम सब भी जानते हैं कि रतन टाटा ने बनारस में कैंसर इंस्टीट्यूट और पूर्वांचल में जीवन स्तर उठाने में जहां हर संभव मदद करने का भरोसा दिया है, वहीं मुकेश अंबानी ने रीटेल स्टोर और पेट्रोल पम्प की संख्या 3००-3०० से बढ़ाकर 1००० करने का यकीन दिलाया है। हिंदुजा समूह की लखनऊ के आस-पास अशोक लेलैंड ट्रक बनाने का प्लांट लगाने की दिलचस्पी ने भी हम सबकी आंखों में आशाओं के दीये जला रखे हैं। महिंद्गा समूह के प्रबंध निदेशक पवन गोयनका की कृषि और ऑटो मोबाइल के साथ लॉजिस्टिक पार्क के क्षेत्र में, सन फार्मा के प्रमोटर दिलीप संघवी व टेरंट समूह के चेयरमैन सुधीर मेहता की फार्मा सिटी और फार्मा हब के विकास में दिखाई गई रुचि ने भी अंधेरे में उजास भरा है।

हम सबकी आशान्वित आंखों की चमक, तो उस समय दोगुनी हो गई जब सरकार के पास निवेश के बड़े प्रस्ताव भी आने शुरू हो गये। मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी के इस प्रस्ताव ने उच्च शिक्षा में लगे स्टूडेंट्स में खुशियां भर दीं कि वह प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों और तकनीकी विश्वविद्यालयों में पांच साल तक मुफ्त वाईफाई सेवा देने को तैयार हैं। इसी क्रम में आईटीसी कंपनी द्वारा लखनऊ में फूड पार्क खोलने के प्रस्ताव ने भी अच्छे दिन आने वाले हैं, के चुनावी बोल के पूरा होने की उम्मीद जगाई है। महिंद्गा एंड महिंद्गा के इस प्रस्ताव से, कि वह लखनऊ की बंद पड़ी स्कूटर इंडिया को खरीद कर फिर से चलाएगी, लोगों की गदोरी में खुजली होने लगी है। मिर्जापुर में फार्मास्यूटिकल कंपनी सन फार्मा द्वारा सीमेंट प्लांट लगाने के प्रस्ताव ने इस जिले समेत इलाहाबाद के पथरीले इलाके शंकरगढ़ के बाशिंदों में उम्मीद जगा दी है कि पत्थर पर भी दूब उगाई जा सकती है।

देश की हार्टलैंड कही जानी वाली यूपी की जमीन अरसे से तरस रही है कि उसकी छाती पर बड़ी औद्योगिक बुनियाद रखी जाए। ऐसा करने में आप सब सक्षम हैं। आप भी जानते हैं कि बड़े उद्योगों की स्थापना से ही भविष्य संवरेगा। बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा। रोजगार मिलेगा, तो खुशहाली आएगी। खुशहाली आएगी, तो यहां की मेधा शक्ति राज्य को ही नहीं, देश-दुनिया को भी रोशन करेगी। इसलिए गुजारिश है कि हमें गले लगाना चाह रहे हैं, तो दिल से लगायें। इसी उम्मीद के साथ आप सभी को रंगों के त्योहार होली की बधाई।

लखनऊ ट्रिब्यून और समस्त प्रदेशवासी

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper