आखिर रायबरेली की इन छात्राओं को खून से क्यों लिखना पड़ा पीएम मोदी को पत्र?

लखनऊ : यूपी के रायबरेली में शोहदों के आतंक से परेशान दो छात्राओं ने खून से भरा शिकायती खत लिखकर सीएम योगी आदित्यनाथ और पीएम मोदी को भेजकर इंसाफ की गुहार लगायी है। छात्राओं ने दिए गए शिकायती पत्र में छात्राओं की सुरक्षा और आबरु बचाने के साथ शोहदों पर कार्रवाई किये जाने की मांग की है।

दरअसल वर्तमान समय में शाहदों का आतंक इस कदर बढ़ गया है कि स्कूल आने और जाने वाली छात्राओं से शोहादे रास्ते में छीटाकशी और अश्लील हरकत कर रहे है। जिसके चलते छात्राओं का घर से बाहर निकलना दुश्वार हो गया है।शहर के एक मोहल्ले की रहने वाली दो छात्राओं ने बीती 20 जनवरी को प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री को खून से लिखा शिकायती पत्र भेजा।

भेजे गए शिकायती पत्र में एक छात्रा ने आरोप लगाया कि वह बाराबंकी जनपद में बीटेक कर रही बावजूद घर आने और जाने से लेकर स्कूल तक शोहदें उसका पीछा करते हैं और रास्ते में छीटाकशी करके उसे परेशान करते हैं। आरोप है कि विरोध करने पर शोहदें तेजाब फेंककर चेहरा खराब करने और जान से मारने की धमकी देते है।

वहीं बीटेक छात्रा की छोटी बहन जो शहर में प्राइवेट स्कूल में कक्षा 11 वीं की कक्षा है, उसका भी आरोप हैं कि शहर के शोहदों से परेशान से छात्राएं स्कूल आने और जाने में डरती है। आरोप है कि शहर में कहीं भी महिला पुलिस कर्मी दिखाई नहीं पड़ती है। इससे शोहदों के हौसले बढ़ रहे है। दोनों सगी बहनों ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजकर छात्राओं की आबरू और सुरक्षा की मांग करते हुए शोहदों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की मांग की है।

जिले भर में वर्तमान समय में शोहदों का आंतक व्याप्त है। घर से स्कूल को निकलने वाली छात्राओं में शोहदों का डर हर समय सताता रहता है। कई छात्राओं ने अगर विरोध किया तो जान से भी हाथ धोना पड़ता है। लालगंज कस्बे में आए दिन शोहदों से परेशान छात्राओं ने स्थानीय पुलिस और प्रशासन से कई बार शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। थकहार कर छात्राएं शोहदों का आतंक बर्दाश्त कर रही हैं।

गत वर्ष नसीराबाद थाना क्षेत्र के एक गांव की एक युवती ने शोहदों के आतंक से परेशान होकर पूरे गांव के सामने मौत को गले लगा लिया था। युवती की मौत के बाद पुलिस ने खानापूर्ति करने के लिए युवक के परिजनों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था। जिले भर में संचालित कोचिंग और स्कूल के बाहर महिला पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई जाए और बाजार व सुनसान स्थान पर विशेष रुप से अभियान चलाया जाए। बाइकों से फर्राटा भरने वाले शाहदों की पूछताछ करने के बाद उन पर कार्रवाई की जाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper