यूपीएमआरसी के एमडी कुमार केशव ने मकर संक्रांति पर दी बधाई, कहा- चाइनीज मांझे से बनाएं दूरी

लखनऊ: कुमार केशव (एम.डी) उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोशन ने लखनऊ वालों को मकर संक्रांति की बधाई दी। साथ ही इस अवसर पर लोगों से पतंगबाजी के दौरान चाइनीज मांझे से दूरी बनाने की अपील भी की। मकर संक्रांति के त्यौहार पर लखनऊ में हर साल लोग पतंगबाजी करते हैं। पतंगबाजी के दौरान चाइनीज़ मांझे का इस्तेमाल भी देखा जाता है। यूपीएमआरसी चाइनीज मांझे के खिलाफ लगातार जागरुकता अभियान चलाता रहा है। हाल ही में यूपीएमआरसी स्टॉफ ने लोगों को गुलाब का फूल भेंट कर चाइनीज मांझा ना इस्तेमाल करने की अपील की थी।

दरअसल, चाइनीज मांझा बिजली का अच्छा चालक होता है और पतंग उड़ाते समय जब मांझा ओएचई (बिजली का तार) के संपर्क में आता है तो वहां शॉर्ट सर्केट होता है, ऐसे में कई बार ओएचई टूट कर गिर जाती है जिससे मेट्रो ट्रैफिक बाधित होता है। इसके साथ ही मैटेलिक थ्रेड के ओएचई से संपर्क में आने पर पतंगबाज की जान का खतरा भी बना रहता है।.

मेट्रो रेलवे एक्ट अधिनियम 78 (अपराध एवं दंड) के अधिनियम 11 के तहत मेट्रो प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने पर 10 साल की सजा का प्रावधान है। चाइनीज मांझे से कई बार मेट्रो की सेवाएं बाधित हो चुकी है, जिसकी वजह से मेट्रो यात्रियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है। लॉकडाउन के बाद, 7 सितंबर से मेट्रो की सेवाओं को फिर से शुरू किया गया है। लॉकडाउन के बाद से 38,471 यात्रियों के साथ लगभग 50 प्रतिशत राइडरशिप लखनऊ मेट्रो ने फिर से पूरी कर ली है। यूपीएमआरसी लोगों की सुरक्षित एवं सुविधाजनक यात्रा का भरोसा दिलाता है। साथ ही कोरोना काल में लखनऊ मेट्रो पर भरोसा बनाए रखने के लिए लोगों को धन्यवाद भी करता है। लखनऊ मेट्रो लोगों का विश्वास बनाए रखने के लिए तत्परता से सेवाओं को और बेहतर करने में लगा हुआ है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper