नगर विकास मंत्री ने बारिश से होने वाले जलभराव और संचारी रोगों से निपटने के लिए यु़द्ध स्तर पर काम करने के दिए निर्देश

लखनऊः नगर विकास मंत्री श्री एके शर्मा ने प्रदेश भर में जलभराव और उसके बाद संचारी रोगों से निपटने के लिए अधिकारियों को युद्ध स्तर पर काम करने के निर्देश दिए हैं। वह शुक्रवार को नगर निकाय निदेशालय से लेकर प्रदेश भर नगर निकायों स्तर के अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से सम्बोधित कर रहे थे। मंत्री एके शर्मा ने कहा कि बारिश के मौसम को देखते हुए हमें और भी सावधानी और सतर्कता बरतनी होगी। उन्होंने आदेश दिए कि प्रदेश भर में जलभराव की समस्या से निजात पाने के लिए उचित इंतज़ाम किए जाएं। साथ ही, ऐसे मौसम के बाद संचारी रोगों के फैलने का भी खतरा रहता है। इसके लिए विशेष व्यवस्था की जाए। उन्होंने खासतौर से लखनऊ व कानपुर के नगर आयुक्तों को जलभराव पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। साथ ही जिला प्रशासन का सहयोग भी लेने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल के क्षेत्रों में ज्यादा बरसात हुई है। अतः वहां के अधिकारियों को विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए गए है कि जो भी आवश्यक हो समुचित करवाई की जाय।

स्वच्छता पखवाड़े की शुरुआत 17 से
नगर विकास मंत्री एके शर्मा ने कहा कि 17 सितंबर से स्वच्छता पखवाड़े की शुरुआत की जा रही है। उन्होंने अधिकारियों को स्वच्छता पखवाड़े को सफल बनाने के लिए निष्ठा के साथ काम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी नगर निकायों में सुबह 5 से 8 बजे तक होने वाली नियमित सफाई कराई जाए। उसके बाद अधिकारी और स्थानीय पार्षद आम जनता को साथ लेकर सफाई अभियान चलाएं। 15 दिन के इस अभियान के दौरान अधिकारियों को भी जिलों में जाने और परखने के निर्देश दिए। कहा कि हर अधिकारी एक नगर चुन लें। 15 दिन की गतिविधियों के दौरान वहां का जायजा लें। उन्होंने सभी अधिशासी अधिकारियों को अपने नगर निकाय के स्तर पर किए जा रहे कार्यों को नमो एप और वेबसाइट पर भी अपलोड करने के निर्देश दिए।

उन्होंने खासतौर से लखनऊ व कानपुर के नगर आयुक्तों को जलभराव पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। साथ ही जिला प्रशासन का सहयोग भी लेने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल के क्षेत्रों में ज्यादा बरसात हुई है। अतः वहां के अधिकारियों को विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए गए है कि जो भी आवश्यक हो समुचित करवाई की जाय।

जन भागीदारी से स्वच्छता
नगर विकास मंत्री ने कहा कि 2 अक्टूबर के बाद एक साफ सुथरा चमकता हुआ उत्तर प्रदेश, जनता को अर्पित करना है। इसके लिए सभी के प्रयासों की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सभी निकायों में वल्नेरबल गार्बेज स्थानों (Vulnerable Garbage Points – वह सार्वजनिक स्थान जैसे फुटपाथ, गली के किनारे, खाली प्लाट जहां कूड़ा इकट्ठा कर दिया गया हो) को चिन्हित किया जाए। इन स्थानों के लिए जन भागीदारी के साथ विशेष स्वच्छता अभियान चलाए जाए। उन्होंने नगर निकायों में चौराहों के सौंदर्यीकरण कराए जाने, अमृत सरोवरों से लेकर सौंदर्यीकरण के अन्य कार्यों को समय पर पूरा करने के निर्देश दिए।

पांच सूत्रीय कार्यों पर जोर
मंत्री एके शर्मा ने कहा कि सभी नगरीय निकायों को गुड-टू -ग्रेट बनाने के लिए अब गंभीरता से कार्य करना होगा। इसके लिए 05 सूत्री कार्यक्रम के तहत कार्य करने को कहा गया है। पहला सभी नगरीय निकायों में सुबह 5.00 बजे से साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने, वाणिज्य स्थानों, व्यवसायिक प्रतिष्ठानों, सार्वजनिक स्थानों पर दो से अधिक बार भी सफाई के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही सभी शहरों व कस्बों के गली एवम् मोहल्लों की भी समुचित साफ सफाई की जाए। दूसरा नगरीय निकायों के सभी चौराहों का सौंदर्यीकरण किया जाए। अविकसित चौराहो को विकसित कर सुंदरीकरण किया जाए। तीसरा शहरों व कस्बों के गंदे स्थानों, कूड़ा कचरा वाले स्थानों, खाली प्लाटों जोकि वानरेबुल गारवेज पॉइंट के रूप में चिन्हित हैं, ऐसे जगहों की साफ सफाई करवा कर वहां बागवानी, उद्यान, पार्क विकसित किए जाएं। चौथा नगरीय निकायों के अंतर्गत अविकसित/अधूरे पार्कों व उद्यानों को विकसित कर उनका सुंदरीकरण कराया जाए। पांचवा अमृत सरोवरों को पूर्ण रूप से विकसित कर आमजन के लिए उपयोगी बनाया जाए। इसके निर्देश दिए गए हैं।

अधिशासी अधिकारी भी होंगे सम्मानित
मंत्री एके शर्मा ने प्रदेश के नगर निकायों के साथ ही अब यहां के अधिशासी अधिकारियों की भी सम्मानित करने के निर्देश दिए। कहा कि अच्छा काम करने वाले अधिकारियों को भी सम्मानित किया जाए। इसके लिए 2 अक्टूबर के बाद फ्रेमवर्क तैयार करने के निर्देश दिए हैं। 17 सितम्बर से शुरू हो रही इंडियन स्वच्छता लीग में यूपी के 377 नगर निकाय शामिल हो रहे हैं। मंत्री एके शर्मा ने इस लीग में पंजीकरण न कराने वाले नगर निकायों को राज्य स्तर पर प्रतिस्पर्धा में शामिल करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यह लीग में भले ही शामिल नहीं हो रहे हैं, लेकिन उनके स्तर पर भी इन गतिविधियों को कराया जाएगा। राज्य स्तर पर इसकी समीक्षा होगी।

छात्रों के लिए खुलेंगे एसटीपी
प्रमुख सचिव श्री अमृत अभिजात जी ने इस दौरान गाजियाबाद और आगरा के एसटीपी प्लांट को इंजीनियरिंग छात्रों के लिए खोलने का सुझाव रखा। इससे, लोगों को एसटीपी प्लांट में जाकर उसके काम करने के तरीके को समझने का अवसर मिलेगा। उन्होंने बताया कि सिंगल यूज प्लास्टिक को लेकर प्रदेश स्तर पर विशेष अभियान संचालित किया जा रहा है। इसके तहत लगातार सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी हो रही है।

इंडियन स्वच्छता लीग आज से
स्थानीय निकाय निदेशक श्रीमती नेहा शर्मा जी ने बताया कि उत्तर प्रदेश में नगर निकायों के स्तर पर 754 अमृत सरोवर के सौंदर्यीकरण करने के लिए चिन्हित किए गए हैं। उन्होंने इंडियन स्वच्छता लीग के बारे में जानकारी दी। बताया कि 17 सितम्बर से इसकी शुरुआत की जा रही है। देश भर के 1800 से ज्यादा शहर इसमें शामिल हो रहे हैं। इसको सफल बनाने के लिए सभी नगर निकायों को निर्देश जारी किए गए हैं। इस वर्चुअल बैठक में सचिव रंजन कुमार, उपनिदेशक श्रीमती रश्मि सिंह, उप निदेशक डॉ. सुनील कुमार यादव, अपर निदेशक डॉ. असलम अंसारी के साथ ही अन्य गणमान्य भी उपस्थित रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper