Weather Report: यूपी के इन जिलों में सितंबर के महीने में हो सकती है भारी बारिश,जानिए क्या कहते हैं मौसम वैज्ञानिक

 

भारत के कई राज्यों में इस साल सामान्य से कम बारिश हुई है और सामान्य से कम बारिश होने के कारण कई राज्यों की परेशानियां काफी ज्यादा बढ़ गई है। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के लोगों के द्वारा इस साल बारिश का इंतजार किया जा रहा है और मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि सितंबर के महीने में अच्छी बारिश हो सकती है।

गुरुवार की सुबह से ही उमस भरी गर्मी रही और रात को कई जिलों में थोड़ी बारिश हुई लेकिन आज शुक्रवार को फिर से उमस भरी गर्मी देखने को मिल रही है जिससे लोगों की परेशानियां बढ़ रही है।

मौसम विभाग ने कहा कि सितंबर में अच्छी बारिश होने के आसार हैं। गुरुवार को मौसम विभाग के महानिदेशक डॉ. एम. महापात्र ने कहा कि सितंबर में सामान्य के 109 फीसदी बारिश होने की संभावना है।

उन्होंने कहा कि मानसून के तीन महीनों के दौरान देश में सामान्य से छह फीसदी अधिक बारिश हुई है। हालांकि, यह चिंताजनक है कि उत्तर प्रदेश, बिहार में बारिश कम हुई।

गुरुवार को राजधानी लखनऊ के अधिकांश इलाकों में बारिश हुई। करीब एक घंटा जोरदार बारिश से तापमान में तीन-चार डिग्री सेल्सियस की गिरावट हुई। बारिश से कई जगह ट्रैफिक जाम भी हुआ। वहीं कई इलाकों में कम बारिश के कारण गर्मी और उमस से लोग परेशान हो गए हैं।

बारिश की कमी के कारण कुछ इलाकों को सूखाग्रस्त घोषित करने की भी योजना है। किसानों को धान की बुवाई में भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

प्रयागराज, वाराणसी, आगरा जैसे जिलों के कई इलाकों में लोग बाढ़ से परेशान है। गंगा, यमुना, चंबल में पानी उफान पर है। इलाकों में नदियों का पानी खतरे के निशान से ऊपर है और बाढ़ का पानी लोगों के घरों में भी घुस गया है। कई इलाकों में पानी और जलभराव से जाम और बिजली कटौती की भी समस्या का सामना करना पढ़ रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper