इतना कहते ही पति की मौत के बाद सती हो गई पत्नी, गांव में मचा हड़कंप

सागर: मध्य प्रदेश के सागर में हैरान के देने वाला मामला सामने आया है। संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत के रिलीज के साथ ही जौहर और सती प्रथा को लेकर एक बार फिर बहस शुरू हो गई है। यहां एक महिला ने पति की मौत के कुछ ही देर बाद सुहागन का श्रृंगार कर खुद को जिंदा जला लिया। परिवार के मुखिया के अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहे परिजनों ने फिर दोनों की अंत्येष्टि साथ में की।

मामला सागर जिले के खुरई के पिपरिया गांव का है। यहां रहने वाले बलबीर सिंह राजपूत की दिल की बीमारी के बाद निधन हो गया। बलबीर की शनिवार रात को अचानक तबीयत बिगड़ी और इलाज के लिए सागर ले जाने के दौरान रास्ते में उनकी मौत हो गई। परिजनों ने बताया कि बलबीर को अपनी मौत का अहसास हो गया था। इस वजह से उन्होंने सागर के लिए इलाज के लिए ले जाने के दौरान पत्नी से कहा था, ‘अब मैं जा रहा हूं।’ रामवती ने जवाब दिया, ‘आप चलो मैं भी पीछे से आ रही हूं।’

परिजन बताते है कि पति की मौत के बाद रामवति ने संयम नहीं खोया। उसने अपने सभी परिजनों को दिलासा दिया। बिलासपुर में मेडिकल की पढ़ाई कर रहे बेटे से फोन पर बात की। इसी दौरान देवरानी की तबीयत बिगड़ी तो सब उन्हें अस्पताल ले जाने की तैयारी करने लगे। इसी दौरान रामवती ने सबकी नजरें बचाकर दुल्हन की तरह पूरा श्रृंगार किया। फिर बाथरूम में जाकर कपड़ों का ढेर से एक आसन बनाया और हाथ जोड़कर खुद को आग के हवाले कर दिया। आसन पर हाथ जोड़े बैठे ही रामवती की मौत हो गई।

रामवती के इस कदम को उठाने के बाद बलबीर की अंत्येष्टि को रोक दिया। पूरे मामले की पुलिस की तरफ से पड़ताल होने के बाद बलबीर और रामवति की अर्थी एक साथ उठी और दोनों का अंतिम संस्कार भी साथ में किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper