करें तुलसी के ये उपाय, दूर होगी व्यापार और विवाह की परेशानी, घर में आएगी सुख- समृद्धि

नई दिल्ली: हिन्दू धर्म में तुलसी का पौधा बेहद पवित्र और पूजनीय होता है! मान्यता है कि इस पौधे से अनेक प्रकार के वास्तुदोष दूर किये जाते हैं! ज्योतिष विद्या के अनुसार, तुलसी के पौधे या पत्ते के इस्तेमाल से गृह क्लेश, विवाह में देरी, व्यापार में नुकसान की समस्या से छुटकारा मिल सकता है! आइये जानें तुलसी के टोटके-

मनोकामनाएं होगी पूरी

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार, पीतल के एक लोटे में पानी भरकर 4-5 तुलसी के पत्ते डाल कर 24 घंटे के लिए रख दें! अगली सुबह स्नानादि के बाद इस जल को घर के प्रवेश द्वार पर छिड़के! इसके अलावा घर से नकरातमक उर्जा को खत्म करने के लिए घर के अन्य भागों में छिड़क दें! मान्यता है कि ऐसा करने से आपकी मनोकामना पूरी होने में आने वाली सभी बाधाएं ख़त्म हो जायेगी! कर्ता इस बात को ध्यान रखें कि यह टोटका करते हुए कोई देखे नहीं और नहीं कोई टोके! अन्यथा यह उपाय प्रभावहीन हो जायगा!

विवाह एवं मनवांछित वर के लिए

व्यापार में तरक्की

यदि आप व्यापार कर रहें हैं और उसमें नुकसान उठा रहें है तो हर शुक्रवार को स्नानादि के बाद प्रातः काल तुलसी में कच्चा दूध चढ़ायें तथा मिठाई का भोग लगाएं! अब बचे हुए प्रसाद को किसी जरूरतमंद सुहागिन स्त्री को दान कर दें! मान्यता है कि ऐसा करने से व्यापार का नुकसान धीरे- धीरे कम होने लगता है!

तुलसी वास्तुदोष दूर करें

कभी –कभी होता है कि घर में वास्तुदोष की वजह कई तरह की परेशानियां होती हैं! जिसकी वजह से घर की सुख शांति गायब हो जाती है! वास्तुशास्त्र के अनुसार तुलसी सकारात्मक उर्जा देने का काम करता है! यदि आपके घर में वास्तुदोष है तो घर के दक्षिण पूर्व दिशा में तुलसी का पौधा लगाएं! इसे नियमित रूप से जल चढ़ाएं और घी के दीपक जलाएं! मान्यता है कि ऐसा करने से घर में नकारात्मक उर्जा दूर हो जाएगी और गृह- क्लेश से भी छुटकारा मिलेगा! इससे घर में सुख- समृद्धि बनी रहती हैं!

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper