घर में तुलसी के साथ लगा लें ये शुभ पौधे, बरसेगा बेशुमार पैसा!

नई दिल्ली. घर में तुलसी का पौधा लगाना बहुत शुभ होता है. तुलसी के पौधे को बहुत पवित्र माना गया है. तुलसी का पौधा अपने आसपास के वातावरण में सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार करता है. साथ ही घर में सुख-समृद्धि लाता है. घर के लोगों को बीमारियों से बचाता है, उन्‍हें करियर में तरक्‍की देता है. धन की आवक बढ़ाता है. लेकिन तुलसी के पौधे को लगाते समय कुछ बातों का ख्‍याल रख लिया जाए तो इससे मिलने वाले फल को कई गुना बढ़ाया जा सकता है.

तुलसी की पूजा करने से भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी की कृपा बरसती है. इनकी कृपा से किस्‍मत का साथ मिलता है. धन-दौलत बढ़ती है. लेकिन तुलसी के पौधे के साथ कुछ खास पौधे लगाने से मिलने वाला शुभ फल कई गुना बढ़ जाता है. इससे पैसे, रिश्‍ते, सेहत से जुड़ी समस्‍याएं खत्‍म होती हैं. साथ ही तरक्‍की की राह में आ रहीं बाधाएं भी खत्‍म होती हैं.

शमी का पौधा: शमी के पौधे का संबंध शनि देव से है. यदि शनि की कृपा हो जाए तो रंक को राजा बनने में देर नहीं लगती है. इसलिए जीवन में सुख-समृद्धि, सफलता के लिए शनि की कृपा जरूरी है.

काले धतूरे का पौधा: काले धतूरे के पौधे का संबंध शिव से है. मान्‍यता है कि शिव जी काले धतूरे के पौधे में वास करते हैं. इसलिए इस पौधे को घर में लगाएं. इससे पति पत्नी का रिश्ता बेहतर होगा और नौकरी-व्‍यापार में तरक्‍की होगी.

यदि काले धतूरे और शमी के पौधे की पूजा करें तो इससे पितृ दोष भी दूर होता है. इसके लिए रोज सुबह स्‍नान के बाद इन दोनों पौधों में दूध मिश्रित जल चढ़ाएं. इससे तेजी से लाभ होगा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper