SAIC मोटर और JSW ग्रुप ने एक संयुक्त उद्यम की घोषणा की इसका मकसद हरित गतिशीलता पर ध्यान केंद्रित करना और विकास में तेजी लाना है


SAIC मोटर ने JSW समूह के साथ रणनीतिक संयुक्त उद्यम में प्रवेश किया है। SAIC एक फॉर्च्यून 500 कंपनी है और इसका वार्षिक राजस्व लगभग 110 बिलियन अमेरिकी डॉलर है और यह 100 से अधिक देशों में कार्यरत है। जबकि JSW अमेरिका के साथ भारत के अग्रणी वैश्विक व्यापार समूहों में से एक है।यह विविध व्यवसायों से 23बिलियन डॉलर का राजस्व हासिल कर रही है।
लंदन में एमजी कार्यालय में एसएआईसी के अध्यक्ष वांग जियाओकिउ और जेएसडब्ल्यू समूह के पार्थ जिंदल द्वारा शेयरधारक समझौते और शेयर खरीद और शेयर सदस्यता समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। इसका मकसद भारत में एमजी मोटर के परिवर्तन और विकास में तेजी लाना है। SAIC मोटर और JSW ग्रुप ऑटोमोबाइल नई तकनीक के क्षेत्र में संसाधनों को एक मंच पर लाकर रणनीतिक तालमेल बनाएंगे। यह ज्वाइंट वेंचर कई नई पहल भी करेगा। इनमे स्थानीय सोर्सिंग को बढ़ाना, चार्जिंग के बुनियादी ढांचे में सुधार, उत्पादन क्षमता का विस्तार और हरित गतिशीलता पर ध्यान देने के साथ साथ वाहनों की एक विस्तृत श्रृंखला पेश करना शामिल है।
समझौते के अनुसार JSW की इस भारतीय संयुक्त उद्यम में 35% हिस्सेदारी होगी। SAIC भारतीय उपभोक्ताओं पर फोकस करता रहेगा। इसके साथ साथ यह असाधारण गतिशीलता और समाधान प्रदान करने के लिए यह इस वेंचर को उन्नत प्रौद्योगिकी प्रदान करता रहेगा।
SAIC मोटर के अध्यक्ष वांग ज़ियाओकिउ के अनुसार, “ऑटोमोबाइल व्यवसाय एक वैश्विक उद्योग है, और किसी भी अन्य समान उद्योग की तरह, इसके स्वस्थ विकास के लिए पहुंच और सहयोग महत्वपूर्ण है। SAIC ने हमेशा ‘जीत-जीत सहयोग’के दृष्टिकोण का पालन किया है। हम दोनो साझेदार अपनी मूल क्षमताओं में लगातार सुधार करते हुए और अपने उत्पादन और बिक्री के पैमाने का विस्तार करते हुए भारत के बढ़ते ऑटोमोटिव बाजार में उपभोक्ताओं के लिए मिलकर काम करेंगे। हम हरित, स्मार्ट उत्पादों और सेवाएं प्रदान करने के लिए और बाजार पर कब्जा करने के लिए बेहतरीन इनोवेशन लेकर आएंगे। अपने उत्पादों के ब्रांड प्रभाव और बाजार हिस्सेदारी का लगातार विस्तार और भारत में एमजी के लिए बड़ी सफलता हासिल करना ही हमारा लक्ष्य है। ”
जेएसडब्ल्यू समूह के पार्थ जिंदल का कहना है , “एसएआईसी मोटर के साथ हमारे रणनीतिक सहयोग का उद्देश्य हरित गतिशीलता समाधानों पर ध्यान केंद्रित करते हुए भारत में एमजी मोटर संचालन को बढ़ाना और बदलना है। यह ज्वाइंट वेंचर नई पीढ़ी के लिए इंटेलिजेंट कनेक्टेड एनईवी और आईसीई वाहनों सहित ऑटोमोबाइल उत्पादों के विश्व स्तरीय प्रौद्योगिकी-सक्षम फ्यूचरिस्टिक सूट लाने का मार्ग प्रशस्त करेगा। यह वेंचर व्यापक स्तर पर स्थानीयकरण कर के भारतीय उपभोक्ताओं को उच्चतम स्तर की ग्राहक सेवा प्रदान करेगा। इकोनॉमी ऑफ़ स्केल के ज़रिए यह से वित्तीय रूप से और समृद्ध होगा। इस संयुक्त उद्यम का एक प्रमुख फोकस क्षेत्र ईवी पारिस्थितिकी तंत्र के विकास को आगे बढ़ाना और इस क्षेत्र में नेतृत्व की स्थिति लेना होगा। हम जेएसडब्ल्यू को अपनी पसंद के साझेदार के रूप में चुनने के लिए एसएआईसी और एमजी मोटर को धन्यवाद देना चाहते हैं। हम साथ मिलकर भारत की सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियों में से एक बनने के लिए तत्पर हैं। एमजी ब्रांड का समृद्ध इतिहास सभी को पता है और भारत में इसकी सफलता सभी ने देखी है। SAIC जैसे एक मजबूत वैश्विक भागीदार के साथ इस ब्रांड और कंपनी को आगे ले जाना वास्तव में सम्मान की बात है। हम आगे बढ़ने के लिए बेहद उत्सुक हैं।”
यह ज्वाइंट वेंचर एमजी के आध्यात्मिक मूल, यानि कि वैश्वीकरण, डिजिटलीकरण, कायाकल्प और युवा दृष्टिकोण को प्रदर्शित करने के लिए एसएआईसी मोटर के विशाल ऑटोमोटिव अनुभव और तकनीकी महारत का भरपूर लाभ उठाएगा। यह स्थानीय सोर्सिंग को बढ़ाने और एक मजबूत आपूर्ति श्रृंखला स्थापित करने के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था के बी2बी और बी2सी क्षेत्रों में जेएसडब्ल्यू समूह की बड़ी उपस्थिति का भी लाभ उठाएगा। SAIC और JSW समूह मिलकर अपने साझा नज़रिए से कार्बन तटस्थता, स्थिरता और हरित गतिशीलता के साथ NEV और ICE के विकास को बढ़ावा देकर भारत में एक स्मार्ट और टिकाऊ ऑटोमोटिव पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की दिशा में काम करेंगे। दोनों संयुक्त उद्यम साझेदार सतत विकास हासिल करने की दृष्टि से भारतीय बाजार में निवेश जारी रखने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper