अगरतला से चटगांव के लिए जल्द शुरू होगी उड़ान सेवा

अगरतला: त्रिपुरा के एक मंत्री ने मंगलवार को कहा कि भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र और पड़ोसी देश के बीच व्यापार और अर्थव्यवस्था संबंधों को और बढ़ावा देने के लिए अगरतला और बांग्लादेश के चटगांव के बीच यात्री उड़ानें शुरू होंगी।

सूचना और सांस्कृतिक मामलों के मंत्री सुशांत चौधरी ने कहा कि त्रिपुरा की राजधानी और बांग्लादेश बंदरगाह शहर के बीच उड़ानों की शुरुआत की सही तारीख नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा विदेश मंत्रालय और बांग्लादेश सरकार के परामर्श से तय की जाएगी।

उन्होंने कहा कि यात्री उड़ान सप्ताह में तीन बार संचालित की जाएगी और इससे भारत और बांग्लादेश के पूर्वोत्तर राज्यों के बीच पर्यटन और व्यापार को और बढ़ावा मिलेगा।

त्रिपुरा मंत्रिपरिषद ने मंगलवार को एक बैठक में नए अंतर्राष्ट्रीय मार्ग में उड़ान संचालित करने के लिए प्रारंभिक नुकसान को वहन करने के लिए विएबल गैप फंड के रूप में 15 करोड़ रुपये को मंजूरी दी।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के एक अधिकारी ने बताया कि उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक)-आरसीएस (रीजनल कनेक्टिविटी) योजना के तहत उड़ानें संचालित की जाएंगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 4 जनवरी को नए एकीकृत टर्मिनल भवन का उद्घाटन करने के बाद अगरतला में महाराजा बीर बिक्रम (एमबीबी) हवाईअड्डा अंतरराष्ट्रीय उड़ानें संचालित करने के लिए तैयार हो गया है।

एएआई के अधिकारियों के अनुसार, अगरतला से 20 किमी उत्तर में स्थित एमबीबी हवाईअड्डा, विमान और यात्रियों के संचालन के मामले में गुवाहाटी हवाईअड्डे के बाद पूर्वोत्तर का दूसरा सबसे व्यस्त हवाईअड्डा है।

500 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित और 30,000 वर्ग मीटर के एक निर्मित क्षेत्र के साथ, एमबीबी हवाईअड्डे पर नए एकीकृत टर्मिनल भवन को पीक आवर्स के दौरान 200 अंतरराष्ट्रीय यात्रियों सहित 1,500 यात्रियों को संभालने के लिए डिजाइन किया गया है और यह सभी आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper