अधिक नमक खाने से घटती है उम्र, पड़ सकता है दिल का दौरा

नई दिल्ली: नमक खाने का स्वाद बढ़ा भी सकता है और बिगाड़ भी, लेकिन अधिकतर लोग यह बात नहीं जानते कि नमक सेहत के साथ भी वही करता है जो स्वाद के साथ। अमेरिका में किए गए एक शोध में यह बात सामने आई है कि वहां अधिकतर लोग रोज की जरूरत से दोगुना ज्यादा नमक खाते हैं और इस कारण उनकी समय से पहले मृत्यु हो जाती है। ज्यादा नमक खाने से दिल का दौरा पड़ने का खतरा और भी बढ़ जाता है।

यह शोध अमेरिकी सरकार के सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) द्वारा किया गया। शोध में कहा गया है कि फास्ट फूड और डिब्बाबंद खाना खाने के कारण लोग पहले की तुलना में दुगना नमक खा रहे हैं। न्यूयॉर्क के हेल्थ कमिश्नर थॉमस फरले इसलिए एक अभियान चला रहे हैं जिसके तहत रेस्त्रां के खाने में कम नमक का प्रयोग करने के आदेश जारी किए जाएंगे और बाजार में अगले पांच सालों में डिब्बाबंद खाने में 25 प्रतिशत की कमी लाई जाएगी।

शोध में बताया गया है कि नमक शरीर को इस कदर नुकसान पहुंचाता है कि यदि खाने में नमक की मात्रा कम भी कर दी जाए तब भी नुकसान कम नहीं होता। जानकारों का मानना है कि लम्बे समय तक अधिक नमक लेने के कारण ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है जिससे दिल को नुकसान पड़ता है। इस पर काबू करने के लिए यदि नमक की मात्रा कम की जाए तो ब्लड प्रेशर कम हो जाएगा, जिस से दिल का दौरा पड़ने का खतरा और भी बढ़ जाता है।

शरीर पर सोडियम और पोटैशियम के असर को समझने के लिए वैज्ञानिकों ने पंद्रह साल तक बारह हजार लोगों पर शोध किया। शोध खत्म होने तक 2270 लोगों की मौत हो चुकी थी। इन में से 825 लोगों की मृत्यु दिल के दौरे के कारण हुई, जबकि 433 की स्ट्रोक या ब्लड क्लॉट के कारण। शोध में कहा गया है कि अधिकतर लोग अधिक सोडियम और कम पोटेशियम लेने की गलती करते हैं।

लोग यह नहीं जानते कि सोडियम ब्लड प्रेशर बढाता है तो पोटेशियम उसे कम करता है ताकि शरीर का संतुलन बना रहे। ऐसे लोगों की किसी भी कारण जल्दी मौत होने की संभावना बन जाती है, खासतौर से इनमें से आधे लोगों में दिल का दौरा पड़ने के आसार 200 फीसदी बढ़ जाते हैं।

इस से बचने के लिए फल सब्जियां और दूध, दही खाने की हिदायत दी गई है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अध्यक्ष रॉबर्ट ब्रिस ने बताया, “करीब 90 प्रतिशत अमेरिकी जरूरत से ज्यादा सोडियम खाते हैं। इस से उनके ब्लड प्रेशर पर असर पड़ता है। ऐसा नहीं है कि लोग खाने में नमक ज्यादा लेते हैं, बल्कि लोग रेस्त्रां में खाते है और डिब्बाबंद खाना भी बहुत खाते हैं।” अमेरिका में 1970 से डिब्बाबंद खाना और नमक की खपत बढ़ती रही है। जिस तरह से डिब्बाबंद खाने को तैयार किया जाता है उस से खाने में सोडियम की मात्रा बढ़ जाती है, जो सेहत के लिए नुकसानदेह है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper