अनिल अंबानी व एस्सेल ग्रुप को दिया गया बैड लोन अब ये कंपनी खरीदेगी, जानिए क्या है पूरा मामला?

नई दिल्ली. एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी ऑफ इंडिया और सेर्बरस कैपिटल के एक कंसोर्शियम ने यस बैंक 48,000 करोड़ रुपये के बैड लोन को खरीदने से पीछे हटने का फैसला किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इन दोनों की ओर से जेसी फ्लावर्स एआरसी के ऑफर के जवाब में बोलियां नहीं जमा की गई है। इस कंसोर्शियम के पीछे हटने के बाद अब इस बात की उम्मीद की जा रही है कि यस बैंक जेसी फ्लावर्स को विजेता घोषित करेगा और अपना 48,000 करोड़ का बैड लोन उसे स्थानांतरित कर देगा। इस ट्रांसफर के बाद यस बैंक के बैलेंस शीट में बैड लोन शून्य हो जाएगा।

बता दें कि जेसी फ्लावर्स की ओर से यस बैंक के बैड लोन के लिए 11,183 करोड़ रुपये की बोली लगाई गई थी इसके जवाब में सात सितंबर तक काउंटर बोलियां मंगाई गई थी। हालांकि इस मामले में आधिकारिक रूप से कोई पुष्टि नहीं की गई है। जहां जेसी फ्लावर के चेयरमैन और सीईओ राहुल गुप्ता इस संबंध में कुछ नहीं बोले वहीं ARCIL और यस बैंक की ओर से भी इस मामले में कुछ नहीं कहा गया है। जिस बैड लोन को जेसी फ्लावर को ट्रांसफर किया जाना है उनमें अनिल धीरूभाई अंबानी, एसेग्रुप और रेडियस ग्रुप को यस बैंक की ओर से दिया गया लोन शामिल हैं। ये लोन अब एनपीए में बदल गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper