अरनिया सेक्टर में ड्रोन से घुसपैठ की कोशिश, गोलीबारी के बाद वापस लौटा…

जम्मू । पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। गत सोमवार को अखनूर के कानाचक्क सेक्टर में ड्रोन से आइईडी टिफिन बम फेंकने के बाद एक बार फिर पाकिस्तानी ड्रोन ने जम्मू अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे अरनिया सेक्टर में ड्रोन से घुसपैठ का प्रयास किया। बीएसएफ के सतर्क जवानों ने आसमान में रोशनी देखते ही उस पर फायरिंग शुरू कर दी जिसके बाद ड्रोन वापस पाकिस्तान सीमा में लौट गया।

पुलिस व बीएसएफ के जवानों ने अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तलाशी अभियान चलाया हुआ है। ऐसी आशंका व्यक्त की जा रही है कि कानाचक्क की तरह पाकिस्तान ने ड्रोन की मदद से यहां भी हथियार या फिर आइईडी फेंकने का प्रयास किया होगा। सर्च ऑपरेशन जारी है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार ड्रोन आज वीरवार तड़के देखा गया। जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) से सटे अरनिया सेक्टर में करीब 300 मीटर की ऊंचाई पर बीएसएफ के जवानों ने एक संदिग्ध पाकिस्तानी ड्रोन देखा। जैसे ही ड्रोन ने भारतीय सीमा में प्रवेश किया जवानों ने उस पर फायरिंग शुरू कर दी।

फायरिंग होते ही ड्रोन वापस पाकिस्तान की सीमा में लौट गया। जवानों ने इस संबंध में अपने अधिकारियों को सूचित किया। ड्रोन की मदद से आतंकवादी संगठनों ने जम्मू में नशे की खेप, हथियार या फिर आइईडी न भेजी, इस आशंका को दूर करने के लिए बीएसएफ व पुलिस ने अरनिया सेक्टर में बड़े स्तर पर तलाशी अभियान जारी रखा हुआ है। बीएसएफ के एक अधिकारी ने बताया कि यह घटना सुबह करीब साढ़े चार बजे की है।

आसमान में रोशनी देखे जाने के बाद ही बीएसएफ जवानों ने ड्रोन पर गोलीबारी की। आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों में अंतरराष्ट्रीय सीमा व नियंत्रण रेखा पर ड्रोन से घुसपैठ के मामले बढ़े हैं। कश्मीर में आतंकवादी हमले बढ़ाने व आगामी अमरनाथ यात्रा में खलल डालने के इरादे से पाकिस्तान यहां सक्रिय आतंकी संगठनों तक हथियार व आइईडी पहुंचाने का निरंतर प्रयास कर रहा है। हाल के दिनों में जम्मू, कठुआ और सांबा सेक्टरों में कई ड्रोन को मार गिराया है। यही उनके पेलोड को भी जब्त किया गया है, जिसमें राइफल, इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी), नशीले पदार्थ व स्टिकी बम शामिल हैं।

इससे पहले पुलिस ने गत सोमवार को जम्मू के अखनूर सीमा क्षेत्र में एक ड्रोन द्वारा गिराए गए तीन चुंबकीय आईईडी बरामद किए थे। इसी तरह 29 मई को कठुआ जिले के राजबाग इलाके में पुलिस ने ड्रोन के साथ सात स्टिकी बम और कई अंडर बैरल ग्रेनेड (यूबीजी) बरामद किए थे। इन घटनाओं के बाद सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था को कड़ा कर दिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper