अरुणाचल प्रदेश: असम के 5 लापता मजदूरों के क्षत-विक्षत शव हुए बरामद

ईटानगर. अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के कुरुंग कुमे जिले में पिछले 15 दिनों से एक सड़क निर्माण स्थल से लापता 19 लोगों में असम के पांच मजदूरों के शव घने जंगल में बरामद किए गए। जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। कुरुंग कुमे के उपायुक्त निघी बेंगिया ने बताया कि बचाव दल ने पिछले कुछ दिनों में हुरी और तापा के बीच घने जंगल में पांच सड़े-गले शव बरामद किए हैं।

बेंगिया ने कहा, “शव अलग-अलग स्थानों और अलग-अलग तारीखों पर पाए गए। एक शव 25 जुलाई को, तीन शव 26 जुलाई को और एक शव 28 जुलाई को बरामद किया गया।” उन्होंने कहा कि पांच शवों के मिलने से इस घटना में मरने वालों की संख्या बढ़कर छह हो गई है। बेंगिया ने कहा, “हिकमत अली नाम का व्यक्ति फुरक नदी में डूब गया था। इसके साथ, मौतों की कुल संख्या बढ़कर छह हो गई।” हालांकि, पांचों क्षत-विक्षत शवों को वापस नहीं लाया जा सका।

ईद के दौरान घर जाने की छुट्टी से इंकार करने पर असम के ये मजदूर पांच जुलाई को भारत-चीन सीमा पर कोलोरियांग के जिला मुख्यालय 200 किलोमीटर दूर दामिन सर्किल में निर्माण स्थल से फरार हो गये थे। वह आठ और 11 के दो समूहों में पैदल अपने घरों के लिए निकल गए थे और तब से लापता हैं। बेंगिया ने बताया कि अब तक दस मजदूरों को दयनीय अवस्था में बचाया गया और वे स्वास्थ्य केंद्रों पर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। जिला आयुक्त ने कहा, “पुलिस, एसडीआरएफ और स्थानीय दलों को तब तक तलाश अभियान जारी रखने का निर्देश दिया है जब तक कि बाकी तीन लापता मजदूर मृत या जीवित नहीं मिल जाते।”

डीसी ने कहा कि बचाए गए पांच में से चार मजदूरों के शवों की पहचान फोरिजुल हक, मोइजल हक, सोहर अली और अबुल हुसैन के तौर पर की गयी है। हालांकि, पांचवें शव की अभी पहचान नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा, बचाए गए स्वस्थ मजदूरों में खैरुल इस्लाम (26), मजीदुल अली (30), मोनोहर हुसैन (18), इनामुल हुसैन (18), जैनल अली (45), हमीदुल हुसैन, अब्दुल अमीन, इब्राहिम अली, खोलेबुद्दीन शेख (27) और शमीदुल, शेख (19) शामिल हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper