इंडोनेशिया में तेज भूकंप के झटके, राजधानी में बिल्डिंग्स से बाहर भागे लोग, 20 की मौत

इंडोनेशिया में फिर से भूकंप के झटकों ने पूरे देश में खलबली पैदा कर दी है. सोमवार को यहां पर भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए हैं. इस भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 5.6 मैग्नीट्यूड मापी गई है. यह तेज झटके कई सेकंड्स तक महसूस किए गए. जानकारी के अनुसार इस भूकंप का केंद्र पश्चिम जावा के सियानुजर में जमीन के करीब 10 किलोमीटर था. मौसम और जियोफिजिक्स एजेंसी ने कहा कि फिलहाल सुनामी का कोई खतरा नहीं है. भूकंप इतना भीषण था कि इसमें अब तक करीब 20 लोगों की मौत हो चुकी है. एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि की है. इसके आलावा करीब 300 से ज्यादा लोग घायल हैं जिनका इलाज किया जा रहा है.

रायटर की खबर के मुताबिक जकार्ता में जब यह भूकंप आया उस वक्त कई लोग अपने दफ्तरों में बैठकर काम कर रहे थे. भूकंप के झटके इतने तेज थे कि कई बिल्डिंग हिलने लगी. इससे अफरा-तफरी का माहौल बन गया. भूकंप की वजह से बिल्डिंग्स में रखा फर्नीचर भी अपनी जगह से हिलने लगा. 22 साल की एक वकील ने आंखों देखी बताई कि कैसे लोग इतने ज्यादा पैनिक हो गए थे कि एग्जिट का रास्त देख रहे थे. वह जल्दी से जल्दी बिल्डिंग से बाहर निकल जाना चाहते थे.

2 दिन पहले भी आया था तेज भूकंप
इससे पहले पश्चिम इंडोनेशिया में शुक्रवार की रात समुद्र के नीचे जोरदार भूकंप आया, लेकिन जानमाल के किसी नुकसान की खबर नहीं है. अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण (यूएसजीएस) ने बताया कि भूकंप की तीव्रता 6.9 थी, जबकि उसका केंद्र दक्षिण बेंगकुलू के दक्षिण पश्चिम में 202 किलोमीटर दूर 25 किलोमीटर की गहराई में था.

यूएसजीएस ने बताया कि इसके बाद एक और झटका आया, जिसकी तीव्रता 5.4 थी. इंडोनेशिया की मीटियोरोलोजी, क्लाइमेटोलोजी एंड जियोफिजिक्स एजेंसी ने सुनामी का कोई अलर्ट जारी नहीं किया है. यूएसजीएस ने कहा कि जानमाल के गंभीर नुकसान की बहुत कम आशंका है. इससे पहले रविवार देर रात को ग्रीस के समुद्री तटीय क्षेत्रों में भूकंप के झटके महसूस किए गए.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper