इन लोगों को सताने से नाराज होते हैं शनि, परेशानियों से घिरती है जिन्दगी

शनि की साढे साती और ढैय्या जिस राशि पर आ जाती है उसका जीवन अस्त-व्यस्त हो जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिसका शनि खराब होता है उसकी जिन्दगी में परेशानी और बाधाओं की बाढ़ सी आ जाती है। इसी के चलते कहा जाता है कि भूलकर भी कभी शनि को नाराज नहीं करना चाहिए। आपका शनि खराब न हो इसके लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि कर्मफलदाता हैं। ये कर्म के कारक हैं, जो लोग मेहनत करते हैं और कठोर परिश्रम से अपना और अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं, ऐसे लोगों को कभी भी सताना नहीं चाहिए। इनके हक को भी नहीं मारना चाहिए। जहां तक हो ऐसे लोगों का उचित सम्मान करना चाहिए। उनकी मदद करनी चाहिए। उनकी मेहनत का सही मानदेय और पारिश्रमिक प्रदान करना चाहिए। जो लोग ऐसा नहीं करते हैं, शनि उन्हें अपनी दशा, महादशा, साढ़े साती और ढैय्या के दौरान अशुभ फल के प्रदान करते हैं।

मान्यता है कि जो लोग दूसरों की मदद करते हैं और धन का प्रयोग दूसरों को हानि पहुंचाने के लिए नहीं करते हैं शनि देव उन्हें कभी परेशान नहीं करते हैं। वहीं जो असहाय लोगों की मदद करते हैं, उनके हकों की रक्षा करते हैं, शनि देव ऐसे लोगों से बहुत प्रसन्न होते हैं और जीवन में सफलता और उच्च पद प्रदान करते हैं।

शनि के उपाय
शनि देव को शांत रखने के लिए शनिवार और मंगलवार का दिन अच्छा बताया गया है। इस दिन पूजा करने से और इन चीजों का दान करने से शनि की अशुभता में कमी आती है-
1. काली उड़द का दान
2. काला छाता
3. काला कंबल
4. जूते
5. लोहे की बनी वस्तुओं का दान
6. कौए और काले कुत्ते को रोटी खिलाएं
7. नीलम रत्न या इसका उपरत्न का दान

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper