इस दिशा में पैर करके लेटने से रात में आती है अच्छी नींद, जाने वजह

नई दिल्ली। काफी लोग ऐसे हैं, जो रात में करवट बदलते रह जाते हैं लेकिन उन्हें नींद नहीं आती. वे कई बार इसके लिए बाहर के शोर को जिम्मेदार ठहराते हैं तो कई बार बेड पर लगे गद्दों को. आज हम आपको बताते हैं कि केवल बेड के गद्दे सही कर लेने से ही अच्छी नींद नहीं आ सकती. इसके लिए आपको अपने घर विशेषकर अपने बेडरूम का वास्तु शास्त्र और सोने की दिशा को सही करना बहुत जरूरी होता है. आज हम आपको इस बारे में विस्तार से बताते हैं.

अगर आप रात में अच्छी नींद लेना चाहते हैं तो आग से जुड़ी हुई कोई भी चीज घर में दक्षिण- पूर्व दिशा में ही रखना चाहिए. साथ ही घर की उत्तर दिशा, जिसे ईशान कोण भी कहते हैं. उसमें हल्की वस्तुएं रखनी चाहिए. इन उपायों से मानसिक शांति मिलती है और नींद अच्छी आती है.

अगर आपने घर के अंदर पौधे लगा रखे हैं तो उन्हें रोजाना पानी देना न भूलें. ध्यान रखें कि वे किसी भी हालत में सूखने न पाएं. उन पौधों का सूखना घर में अशांति लेकर आता है. इसके साथ ही आप घर में ओवरहेड वाटर टैंक की व्यवस्था दक्षिण पश्चिम दिशा में करवाएं. ऐसा करना शुभ माना जाता है.

आप अपने घर में जो भी इलेक्ट्रॉनिक आइटम इस्तेमाल करते हैं. उनका नियमित रूपी से देखभाल करना सुनिश्चित करें. खराब हुई चीजों से दुर्घटना होने की आशंका रहती है. साथ ही वे मानसिक तनाव को भी बढ़ाती हैं. आप इस बात का भी ध्यान रखें कि घर के किसी भी कमरे में कांटे वाले गुलदस्ते कभी भूलकर भी न रखें.

रात को अगर आप अच्छी नींद लेना चाहते हैं तो दक्षिण दिशा की ओर भूलकर भी पैर करके न सोएं. ऐसा करने से मन में घबराहट और बेचैनी जैसी दिक्कतें होती हैं. इसके साथ ही बेडरूम में दरवाजे की ओर सिर करके भी नहीं सोना चाहिए. इसके बजाय आप पूर्व दिशा में सिर और पश्चिम दिशा में पैर करके सोएं. इससे आपको अच्छी नींद आएगी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper