उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड और घना कोहरा; UP के लखनऊ समेत इन जिलों में 20 जनवरी तक बंद रहेंगे स्कूल

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) समेत उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड और घना कोहरा छाया हुआ है। शीतलहर (Cold Wave) की स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने लखनऊ, मेरठ, आगरा और गौतम बुद्ध नगर में स्कूल कुछ दिन बंद रखने का फैसला किया है। लखनऊ जिला प्रशासन के मुताबिक जिले में 16 जनवरी तक स्कूल बंद रहेंगे। जबकि, मेरठ में स्कूल सोमवार तक बंद रहेंगे।

लखनऊ जिलाधिकारी सूर्य पाल गंगवार ने अपने आदेश में कहा कि लखनऊ जनपद में शीतलहर संबंधित मौसम विभाग के पूर्वानुमान जनपद के सभी बोर्ड के विद्यालयों में कक्षा 8 तक के समस्त सरकारी / गैर सरकारी / प्राइवेट विद्यालयों में दिनांक 16 जनवरी 2024 तक अवकाश घोषित किया जाता है। कक्षा 9 से कक्षा 12 के विद्यार्थियों के लिए समस्त सरकारी/ गैर सरकारी / प्राइवेट प्राइवेट विद्यालयों में जहां संभव हो, वहां विद्यालयों द्वारा कक्षाओं का संचालन ऑनलाइन माध्यम से कराया जा सकता है।

जिलाधिकारी ने आदेश में आगे कहा कि क्लासेस/प्रैक्टिकल/ एग्जाम के लिए विद्यार्थियों को बाहर खुले में नहीं बैठाया जाएगा। विद्यार्थियों के यूनिफार्म पहनने की बाध्यता को समाप्त किया जाता है और यह सलाह दी जाती है कि ऐसे गर्म कपड़े जो ठंड से बचाव करने में सक्षम हों उन्हें पहनकर ही विद्यार्थी विद्यालय जाए। यह अवकाश मात्र स्टूडेंट्स के लिए अनुमन्य है। टीचिंग एवं नॉन टीचिंग स्टाफ के लिए नियोक्ता / प्रबंधक द्वारा अपने स्तर से निर्णय लिया जायेगा।

स्कूलों का बदला समय
उल्लेखनीय है कि, लखनऊ के अलावा मेरठ में सभी स्कूलों में 8वीं तक की कक्षाएं 15 जनवरी तक बंद रहेंगी। जबकि, गौतम बुद्ध नगर के सभी स्कूलों में कक्षा 8वीं तक की कक्षाएं 16 जनवरी तक बंद रहेंगी। आगरा में 5वीं तक की कक्षाएं 20 जनवरी तक बढ़ाई गई है। हालांकि, शीतलहर को देखते हुए कक्षा 6 से 12वीं तक के स्कूलों का समय बदल दिया गया है। स्कूल अब सुबह 11 से दोपहर 3:30 तक रहेगी।

कोहरे के चलते 22 ट्रेन प्रभावित
उत्तर भारत के गांगेय इलाके में रविवार को कोहरे की परत छाई रही और कई स्थानों पर दृश्यता शून्य मीटर रही। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने लोगों को अनावश्यक यात्रा से बचने और वाहन चलाते समय सावधानी बरतने की सलाह दी है। रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा कि कोहरे से दिल्ली आने वाली 22 ट्रेन प्रभावित हुई हैं। उपग्रह से प्राप्त तस्वीरों में घने कोहरे की एक परत दिखाई दी जो पंजाब और उत्तरी राजस्थान से उत्तर-पूर्व तक फैली हुई है। पूर्वी तट पर भी कहीं-कहीं कोहरा दिखाई दिया।

दृश्यता शून्य मीटर
आईएमडी के एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार रात 10 बजे से पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तरी राजस्थान और उत्तर प्रदेश में घना कोहरा छाया रहा। उन्होंने बताया “सर्दी के इस मौसम में यह पहली बार है कि अमृतसर से डिब्रूगढ़ तक गंगानगर, पटियाला, अंबाला, चंडीगढ़, दिल्ली, बरेली, लखनऊ, बहराईच, वाराणसी, प्रयागराज और तेजपुर (असम) में दृश्यता शून्य मीटर रही।” उन्होंने कहा, “यह इस मौसम में घने कोहरे की सबसे लंबी अवधि रही। साथ ही, यह अब तक का सबसे घना कोहरा है।”

ड्राइविंग के समय सावधानी बरतें
आईएमडी ने कहा कि यात्रियों को राजमार्गों पर गाड़ी चलाते समय बेहद सावधानी बरतनी चाहिए और फॉग लाइट का इस्तेमाल करना चाहिए। सुबह 5:30 बजे, पटियाला, अंबाला, बहराईच (यूपी), पूर्णिया (बिहार), और पालम (दिल्ली) में दृश्यता का स्तर 25 मीटर और अमृतसर, चंडीगढ़, सफदरजंग (दिल्ली), बरेली, लखनऊ में 50 मीटर था। वाराणसी, डिब्रूगढ़, और तेजपुर (असम)गुवाहाटी (असम), कैलाशहर और अगरतला (त्रिपुरा) में दृश्यता स्तर 200 मीटर दर्ज किया गया। दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास पालम वेधशाला में सुबह पांच बजे तक घना कोहरा छाया रहा और दृश्यता का स्तर शून्य मीटर रहा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper