एफआईआर रद्द कराने के लिए सनी लियोनी ने खटाखटाया कोर्ट का दरवाजा, जाने पूरा मामला

नई दिल्ली. बॉलीवुड अभिनेत्री सनी लियोनी ने खुद पर दर्ज एक एफआईआर को रद्द कराने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। एक्ट्रेस ने केरल हाईकोर्ट का रुख किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक सनी पर स्टेट पुलिस की क्राइम ब्रांच विंग ने चार वर्ष पहले एफआईआर दर्ज की थी। सनी लियोनी पर आरोप है कि कोझिकोड में एक स्टेज परफॉर्मेंस के लिए हुए कॉन्ट्रैक्ट का उन्होंने उल्लंघन किया। इसी सिलसिले में सनी ने खुद पर दर्ज एफआईआर को रद्द किए जाने की मांग की है।

अपनी याचिका में सनी लियोनी ने खुद पर, अपने पति डेनियल वेबर और कर्मचारी के ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया है। उन्होंने दावा किया है कि वह किसी भी किस्म के अपराध में लिप्त नहीं थे। सनी लियोनी का कहना है कि उन्हें एक परेशानी में डाल दिया गया है। सनी के मुताबिक उन्हें इस मुकदमे की लंबी प्रक्रिया के दौरान काफी नुकसान हुआ है, जबकि उनके खिलाफ कोई पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक क्राइम ब्रांच उस मामले की जांच कर रही है, जो एर्नाकुलम जिले में शियास कुंन्हुमोहम्मद नाम के शख्स की शिकायत पर दर्ज किया गया। शो के कॉर्डिनेटर शियास ने अपनी शिकायत में कहा कि सनी ने स्टेज पर परफॉर्मेंस के लिए एक कॉन्ट्रैक्ट पर साइन किए। इसके लिए उन्होंने 39 लाख रुपये लिए। मगर सनी लियोनी व अन्य लोग कार्यक्रम में नहीं आए और न ही रकम वापस की।

बता दें कि इस मामले में सनी लियोनी पर एफआईआर दर्ज हुई। इसके अलावा एक्ट्रेस के पति डेनियल वेबर और सनी की कंपनी के कर्मचारी सुनील रजनी इस इस मामले में दूसरे और तीसरे आरोपी हैं। उन्होंने भी एफआईआर रद्द किए जाने की मांग की है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper