कब्ज और डायबिटीज जैसी दिक्कतों को दूर करते हैं ये खास बीज, जानिए इनका यूज़

नई दिल्ली. बीजों को सेहत के लिए बेहद अच्छा माना जाता है. जिन बीजों की यहां बात की जा रही है उनमें ओमेगा-3 फैटी एसिड्स की अत्यधिक मात्रा पायी जाती है. इन बीजों का नाम है अलसी के बीज. अपने कमाल के फायदों के चलते अलसी के बीज कई तरह की डाइट का हिस्सा बनाए जाते हैं. इसके साथ ही, इन बीजों को वेट लॉस के लिए भी अच्छा माना जाता है और डायबिटीज होने पर ब्लड शुगर कंट्रोल करने वाले खानपान में भी अलसी के बीज शामिल किए जाते हैं. इन बीजों में कार्ब्स, फाइबर, फैट, अमीनो एसिड्स, मैग्नीशियम और प्रोटीन भी अच्छीखासी मात्रा में होता है. जानिए अलसी के बीजों के सेहत को मिलने वाले अनेक फायदों और सेवन के तरीकों के बारे में.

वजन कम करने के लिए इन छोटे भूरे बीजों को खानपान का हिस्सा बनाना अच्छा साबित होता है. इन बीजों को खाने पर आपको लंबे समय तक भूख का एहसास नहीं होगा और वजन कम होने में मदद मिलेगी. इन क्रंची बीजों को आप स्नैक्स की तरह खा सकते हैं या फिर सलाद में शामिल कर सकते हैं.

कुछ स्टडीज में पाया गया है कि अलसी के बीजों में पाए जाने वाले कंपाउंड्स डायबिटीज में ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखने में मददगार होते हैं. जिन लोगों पर ये स्टडी की गई उन्हें रोजाना 1 से 2 महीनों के लिए अलसी के बीजों का पाउडर खाने के लिए दिया गया था.

बुरे कॉलेस्ट्रोल को कम करने में अलसी के बीज अच्छा असर दिखा सकते हैं. अलसी के बीजों में फाइबर और कुछ कंपाउंड्स पाए जाते हैं जो बाइल एसिड्स को आपस में बांधते हैं जिससे गंदा कॉलेस्ट्रोल साफ होने लगता है. ये बीज पाचन को बेहतर करने में भी असरदार हैं.

अलसी के बीजों में सोल्युबल और इनसोल्यूबल दोनों तरह के फाइबर पाए जाते हैं. ये फाइबर मल को मुलायम बनाते हैं जिससे मलत्याग करने में आसानी होती है. अगर आप कब्ज से परेशान हैं तो रोजाना अलसी के बीजों का सेवन आपके लिए फायदेमंद हो सकता है. इन बीजों को आप रोजाना मुट्ठीभर खा सकते हैं, सब्जी में डाल सकते हैं, पीसकर आटे में मिलाकर इनसे रोटी बनाकर खाई जा सकती है या फिर स्मूदी और शेक्स में इन्हें डाला जा सकता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper