काली विवाद पर महुआ मोइत्रा का BJP पर पलटवार, मां ओ मां उनके सीने पर पैर रख देंगी

नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस की लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा की ओर से मां काली पर टिप्पणी पर राजनीतिक विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीजेपी और टीएमसी एक दूसरे पर निशाना साध रही हैं। इस बीच रविवार को महुआ मोइत्रा एक बार फिर अपने बयानों को लेकर चर्चा में हैं। मोइत्रा ने बीजेपी आईटी सेल प्रमुख पर निशाना साधते हुए कहा, अब मां काली उनके सीने पर पैर रखेंगी। मोइत्रा ने ट्वीट करते हुए कहा, बंगाल के लिए बीजेपी के ट्रोल-इन-चार्ज को सलाह देंगी कि वे अपने आकाओं से कहें कि वे उन चीजों पर टिप्पणी करना बंद करें जिनके बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। दीदी ओ दीदी ने उन्हें बूट दिलवाया। अब मां ओ मां उनके सीने पर पैर रखेगी।’ दरअसल, पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी की ओर से दीदी ओ दीदी बोलना बीजेपी के लिए भारी पड़ गया था और भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था।

देवी काली पर बयान के बाद छिड़े विवादों के बीच रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इशारों-इशारों में निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा, ‘स्वामी रामकृष्ण परमहंस, एक ऐसे संत थे जिन्होंने मां काली का स्पष्ट साक्षात्कार किया था। उन्होंने मां के चरणों में अपना सर्वस्व समर्पित कर दिया था। वह कहते थे यह सम्पूर्ण जगत, ये चर-अचर, सब कुछ मां की चेतना से व्याप्त है। यही चेतना बंगाल की काली पूजा में दिखती है। यही चेतना बंगाल और पूरे भारत की आस्था में दिखती है।’

पहले क्या कहा था महुआ मोइत्रा ने?
वहीं, टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने हाल ही में एक सम्मेलन में कहा था कि उन्हें एक व्यक्ति के रूप में देवी काली की कल्पना मांस खाने वाली और शराब स्वीकार करने वाली देवी के रूप में करने का पूरा अधिकार है क्योंकि प्रत्येक व्यक्ति के पास प्रार्थना करने का अपना अनूठा तरीका है। मोइत्रा एक फिल्म के पोस्टर पर उत्पन्न आक्रोश के संबंध में एक सवाल का जवाब दे रही थीं। उक्त पोस्टर में देवी काली के वेशभूषा वाली एक महिला को सिगरेट पीते हुए दिखाया गया था।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper