किसानों के चेहरों पर मुस्कान लाई प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (PM-KISAN) किसानों के लिए काफी काम की साबित हो रही है। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने दिसंबर, 2018 में पीएम किसान सम्मान निधि योजना शुरू की थी। यह नरेंद्र मोदी सरकार के तहत एक केंद्रीय योजना है, जिसका उद्देश्य उन किसान परिवारों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है, जिन्हें मदद की जरूरत है।

योजना का लाभ उठाने वाले किसान साथी प्रधानमंत्री की इस योजना से काफी गदगद हैं। इनमें से एक किसान ने देश के अपने बहुभाषी माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म, कू ऐप के माध्यम से प्रधानमंत्री का इस योजना का लिए आभार व्यक्त किया है। इसका एक वीडियो वाणिज्य और उद्योग, उपभोक्ता मामले और खाद्य मंत्री पीयूष गोयल ने अपने कू हैंडल के माध्यम से पोस्ट किया है। इस पोस्ट में कहा गया है:

मलयाली किसान ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के माध्यम से मुर्गियां खरीदने और उद्योग को अच्छी तरह से चलाने में सक्षम होने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया। साफ है कि यह योजना किसानों के चेहरों पर मुस्कान लेकर आई है, जो उनकी मूलभूत जरूरतों को पूरा करने के लिए कदम से कदम मिलाकर किसानों के साथ चल रही है। पूरी तरह से सरकार समर्थित योजना, पीएम किसान सम्मान निधि योजना उन सभी किसानों के परिवारों के लिए लागू है जिनके पास सीमित भूमि है।

पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत भूमिधारक किसानों को प्रति वर्ष 6,000 रुपये का भत्ता मिलता है, जो चार महीने के अंतराल में साल में तीन बार वितरित किया जाता है। अब तक सरकार किसानों के कल्याण के लिए पीएम-किसान योजना पर 1.80 लाख करोड़ रुपये से अधिक खर्च कर चुकी है।

आवेदन कैसे करें

यदि आपने अब तक भी इस योजना के लिए आवेदन नहीं किया है, तो अभी भी देर नहीं हुई है। इन बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए आवेदन किया जा सकता है:

पात्रता वाले किसान गाँव के पटवारी, राजस्व अधिकारी या अन्य नामित अधिकारी / एजेंसी के पास आवश्यक विवरण प्रस्तुत कर आवेदन कर सकते हैं।
किसान अपने नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर (CSCs) पर भी जाकर भुगतान करके पंजीकरण करा सकते हैं।
किसान स्वयं भी पीएम किसान पोर्टल में किसान कॉर्नर के माध्यम से अपना पंजीकरण करा सकते हैं।
पंजीकरण के लिए आवश्यक विवरणों में नाम, आयु, लिंग, श्रेणी (एससी/ एसटी), आधार संख्या (यदि आधार संख्या जारी नहीं की गई है, तो आधार नामांकन संख्या किसी अन्य निर्धारित दस्तावेजों के साथ ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता पहचान पत्र, नरेगा जॉब कार्ड, या केंद्र/राज्य/ केन्द्र शासित प्रदेश सरकार या उनके अधिकारियों, आदि द्वारा जारी किए गए किसी भी पहचान दस्तावेज आदि), बैंक खाता संख्या और लाभार्थियों का मोबाइल नंबर।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper