केरल के राज्यपाल ने मानसिक स्थिरता खो दी है : माकपा

तिरुवनंतपुरम: माकपा ने केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के खेमे में लड़ाई लड़ने का फैसला करने के साथ ही पार्टी ने मंगलवार को ‘सेव एजुकेशन कलेक्टिव’ के तहत लिखे पर्चे बांटे, जिसमें राज्यपाल को फटकार लगाई और उनकी मानसिक स्थिरता पर उंगली उठाई। पर्चे में लिखा गया कि खान को राज्यपाल के अधिकारों, जिम्मेदारियों और कर्तव्यों के बारे में कोई जानकारी नहीं है। वह संघ परिवार की ताकतों का सिर्फ एक उपकरण है।

इस बात की पुष्टि करते हुए कि माकपा ने चौतरफा हमले की घोषणा की है, राज्य के पार्टी सचिव एम.वी. गोविंदन ने कहा कि आगे बढ़ने का एकमात्र तरीका लोगों को काम करने के असंवैधानिक और अलोकतांत्रिक शैली के खिलाफ लाना है। गोविंदन ने कहा, उन्होंने (राज्यपाल) अपनी मानसिक स्थिरता खो दी है। 15 नवंबर को, हम ऐसा विरोध प्रदर्शन करेंगे, जो पहले कभी नहीं देखा गया होगा। एक लाख लोग राज्यपाल के आधिकारिक आवास के सामने विरोध प्रदर्शन करेंगे। इसके अलावा राज्य के अन्य सभी जिलों में विरोध भी होगा।

उन्होंने कहा, हमने पहले ही कहा है और घोषणा की है कि हम चीजों को व्यवस्थित करने के लिए किसी भी हद तक जाएंगे और हम राज्यपाल को उनकी इच्छा के अनुसार कार्य करने की अनुमति नहीं देंगे। जिस बात ने माकपा को सबसे ज्यादा आहत किया है, वह यह है कि खान ने मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन को निशाने पर लिया, जिन्हें व्यापक रूप से एक मजबूत राजनेता के रूप में माना जाता है।

खान ने विजयन पर निशाना साधा क्योंकि वह उस घटना से अवगत हैं जो कई साल पहले हुई थी, जब एक युवा आईपीएस अधिकारी ने सीपीआई (एम) के विरोध के बीच अपनी पिस्तौल निकाली और विजयन की ओर इशारा किया। विजयन घटनास्थल से गायब हो गए और फिर कपड़े बदल कर वापस लौटे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper