क्‍या आपके किचन-स्‍टोर रूम में भी रखी हैं ये चीजें? तुरंत हटाएं, लाती हैं गरीबी!

नई दिल्ली. वास्‍तु शास्‍त्र के मुताबिक घर में रखी हर चीज सकारात्‍मक या नकारात्‍मक ऊर्जा का संचार करती है. यदि घर में ऐसी वस्‍तुएं ज्‍यादा होंगी जो नकारात्‍मकता लाती हैं तो घर में कलह-अशांति होगी. घर के लोग करियर में बाधाएं, पैसों की तंगी झेलते हैं. ऐसे में घर से इन नकारात्‍मक चीजों को जल्‍द से जल्‍द हटा देना ही बेहतर होता है. इतना ही नहीं इन चीजों को स्‍टोर रूम में भी यह सोचकर सालों तक न रखें कि ये भविष्‍य में काम आएंगे. बल्कि उन्‍हें या तो किसी को दान कर दें या फेंक दें.

घर में न रखें ये चीजें
टूटे हुए या अनुपयोगी बर्तन: आजकल घरों में बर्तन-क्रॉकरी की भरमार होती है. फैशन बदलने के साथ ही इन पुराने बर्तनों को स्‍टोर का रास्‍ता दिखा दिया जाता है. लेकिन पीतल के पुराने बर्तन या स्‍टील, कांच-प्‍लास्टिक के टूटे हुए या उपयोग में नहीं लाए जा रहे बर्तनों में शनि का वास हो जाता है. ऐसे में ये जीवन में कई परेशानियों का कारण बनने लगते हैं. बेहतर होगा कि इन्‍हें घर से हटा दें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper