क्या आप भी रखते है पर्स में ऐसी तस्वीर तो हो जाए सावधान, वरना पूरी जिदंगी…

वास्‍तु शास्‍त्र के अनुसार घर में रखी हर चीज और हमारे उपयोग में लाई जा रही चीजों की ऊर्जा हम पर गहरा असर डालती है. यह असर अच्‍छा और बुरा दोनों हो सकता है. इसलिए कुछ खास चीजों का चुनाव, उनका उपयोग और रख-रखाव वास्‍तु के नियमों के अनुसार करना चाहिए. रोजमर्रा में उपयोग आने वाली इन्‍हीं महत्‍वपूर्ण चीजों में से एक है पर्स या वॉलेट. महिलाओं-पुरुषों द्वारा पैसे रखने के लिए उपयोग किया जाने वाला पर्स या वॉलेट उनकी आर्थिक स्थिति में अहम रोल निभाता है. यदि इसे लेकर गड़बड़ी की जाए तो धन हानि, फिजूलखर्ची का सामना करना पड़ता है.

पर्स/वॉलेट को लेकर न करें ये गलतियां
पर्स या वॉलटे कभी फटा हुआ और बदहाल स्थिति में न हो. पर्स यदि खराब हो जाए तो उसे तुरंत बदल लें. फटा हुआ पर्स रखना अपने हाथों पैसों की तंगी को न्‍योता देना है.

पर्स में कभी भी नोट या बाकी चीजें ठूंस-ठूंस कर न रखें, बल्कि व्‍यवस्थित ढंग से रखें. पर्स में तोड़-मरोड़कर रखे गए नोट धन की देवी मां लक्ष्‍मी को नाराज कर सकते हैं.

पर्स में कभी पुराने बिल, फालतू के कागज न रखें. ऐसा करने से नकारात्‍मकता बढ़ती है, जो कई तरक के नुकसान-मुसीबतों का कारण बनती है.

पर्स में कभी भी चाबी या नुकीली चीजें न रखें. ऐसा करने से खर्चे बढ़ते हैं. धन हानि होती है. कह सकते हैं कि पर्स में लोहे की चीजें न रखें.

पर्स में भगवान की फोटो भी नहीं रखनी चाहिए. ऐसा करने से देवी-देवताओं का अपमान होता है.

पर्स में सूखे हुए फूल आदि रखने से भी बचना चाहिए. ये चीजें भी नकारात्‍मकता का कारण बनती हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper