गणेश चतुर्थी के रंग में रंगा भारत, चारों और ‘गणपति बप्पा मोरिया’ की गूंज

नई दिल्ली: पूरे देश में गणेश चतुर्थी की धूम हैं, क्या आम और क्या खास, सभी बप्पा के प्रेम में रंगे हुए हैं। कुछ जगहों पर विघ्नहर्ता की स्थापना हो गई है तो कुछ जगहों पर स्थापना की तैयारी हो रही है। पीएम मोदी ने भी गणेश पर्व पर सबको बधाई दी है। उन्होंने ट्वीट किया है कि ‘गणेश चतुर्थी की ढेरों शुभकामनाएं। गणपति बप्पा मोरया!’।

सभी देशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं
तो वहीं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भी गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि ‘गणेश चतुर्थी के पावन अवसर पर, मैं भारत और विदेश में रह रहे सभी देशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं देती हूं।आइए, हम सब इस अवसर पर प्रार्थना करें कि भगवान गणेश की कृपा से समूचे विश्व में सद्भाव और सौहार्द का संचार रहे ।’

मंदिरों, पंडालों में धूम
आपको बता दें सुबह से मंदिरों, पंडालों में धूम देखी जा रही है। लोग सजधजकर बप्पा का स्वागत कर रहे हैं। कहीं मंगल गीत गाए जा रहे हैं तो कहीं पर मोदक बनाने और खाने की होड़ मची हुई है।

मंत्र
ॐ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुदि्ध प्रचोदयात.
ॐ ग्लौम गौरी पुत्र, वक्रतुंड, गणपति गुरु गणेश.
ग्लौम गणपति, ऋद्धि पति, सिद्धि पति. करो दूर क्लेश..
ॐ नमो गणपतये कुबेर येकद्रिको फट् स्वाहा.
‘इदं दुर्वादलं ऊं गं गणपतये नमः’
सुमुखश्च एकदंतश्च कपिलो गजकर्णक:
लम्बोदरश्च विकटो विघ्ननाशो विनायक:
धुम्रकेतुर गणाध्यक्षो भालचन्द्रो गजानन:
द्वादशैतानि नामानि य: पठेचशृणुयादपि ..
एकदंताय विद्महे, वक्रतुण्डाय धीमहि, तन्नो दंती प्रचोदयात्.

स्थापना का मुहूर्त
गणेश महोत्सव 10 दिवसीय है।
आज से शुरू हुआ महोत्सव 9 सितंबर तक चलेगा।
शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि यानी 30 अगस्त दोपहर से शुरू होकर आज 31 अगस्त दोपहर 03:30 पर समाप्त हो जाएगी।
स्थापना का शुभ मुहूर्त आज 31 अगस्त को दोपहर करीब 03:30 तक है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper