गलती से भी न करें ये 4 काम, घर में प्रवेश करती है नकारात्मक ऊर्जा, ऐसे करें पहचान

नई दिल्ली. कई बार हमारे जीवन नकारात्मक ऊर्जा के कारण आपके घर की खुशहाली भंग हो जाती है. चारों ओर नेगेटिविटी छाने लगती है. मन विचलित रहता है. रोजान गृह क्लेश होते हैं. हर काम में बाधा लगती है. लेकिन ऐसा क्यों होता है इससे हम अनजान रहते हैं. ऐसा कई बार गृहदोष इसका कारण होते हैं, लेकिन घर में नकारात्मक ऊर्जा का बढ़ना भी इस स्थिति की वजह हो सकती है. आइए जानते हैं किन चीजों से नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव बढ़ता है, जिससे धन व सुख का अभाव बढ़ता है.

भूलकर भी न करें ये काम:

शास्त्रों के अनुसार रात में कभी भी सुगंधित चीजें जैसे परफ्यूम, इत्र आदि का प्रयोग नहीं करना चाहिए. तेज सुंगध से नकारात्मक शक्तियां आपकी तरफ आकर्षित होती हैं.
घर, कार्यस्थल या फिर दुकान में कोई भी जगह अंधेरा नहीं रखना चाहिए. ज्यादा दिनों इन्हें अंधेरे में रखने से नकारात्मक ऊर्जा बढ़ जाता है.
घर में रोजाना पूजा-पाठ की सलाह दी जाती है, क्योंकि जहां नियमित रूप से मंत्र जाप, दीपक प्रजवल्लित होता है वहां बुरा साया कभी नहीं आता.
जिसका घर अक्सर गंदा हो, रोजाना शारीरिक साफ सफाई न की जाए तो वहां नकारात्मक ऊर्जा जल्‍दी प्रभावित होती हैं. इसलिए घर और खुद को स्वच्छ रखें.
घर में नकारात्मक ऊर्जा के संकेत:

यदि घर के अंदर हर समय स्वंय को थका हुआ, प्रेरणारहित और भ्रमित महसूस करते हैं तो ये घर नकारात्मक ऊर्जा के होने का इशारा करता है. इन्हें दूर करने के लिए प्रतिदिन घर में घंटी या शंख का प्रयोग करें.
जब घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार बढ़ जाता है तो चीजें आपके अनुकूल नहीं होती. आखिरी पायदान तक पहुंचने के बाद भी अवसर हाथ से निकल जाता है. ऐसे में सतर्क रहें और आत्मबल को कम न होने दें.
बार-बार बिना बात घर में मतभेद होना, निरंतर किसी एक व्यक्ति का बीमार पड़ना घर में नकारात्मक ऊर्जा के बढ़ने के संकेत हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper