घर बेचने जा रहा था कर्ज में डूबा व्यक्ति, अचानक पलटी किस्मत और मिल गए 1 करोड़

कोच्ची: केरल में कर्ज में डूबकर अपना घर बेचने के लिए मजबूर हो गए एक व्यक्ति की किस्मत उस समय चमक गई, जब उसे एक करोड़ रुपए की लॉटरी लग गई। कौड़ियों के भाव अपना घर को बेचने जा रहे 50 साल के मोहम्मद बावा की मन की मुराद पूरी हो गई। बता दें कि टैक्स कटौती के बाद उन्हें 63 लाख रुपए मिलेंगे। केरल के उत्तरी जिले के मंजेश्वर के रहने वाले बावा पर तक़रीबन 50 लाख रुपए का कर्ज था। मोहम्मद बावा ने यह ऋण अपनी दो बेटियों का निकाह करने और व्यापार में हुए नुकसान से उबरने के लिए रिश्तेदारों और बैंकों से ले रखा था।

रिश्तेदारों और बैंकों के बढ़ते दबाव को देखते हुए मोहम्मद बावा ने अपना घर बेचकर कर्ज चुकाने का फैसला लिया था। इसके लिए उन्होंने लेनदारों से बात भी कर ली थी, मगर घर बेचने के दो घंटे पहले ही उन्हें एक करोड़ रुपए की लॉटरी लगने की जानकारी मिली। इसके बाद उन्होंने अपना घर बेचने का फैसला बदल लिया। मोहम्मद बावा ने इस उम्मीद में लॉटरी का एक टिकट खरीदा था, एक दिन उनकी किस्मत पलट जाएगी और हुआ भी ऐसा ही। बावा ने रविवार (24 जुलाई 2022) को केरल की पिनरई विजयन सरकार की लॉटरी के टिकट ख़रीदे थे। लॉटरी का रिजल्ट रविवार दोपहर 3:30 बजे घोषित हुआ और इसमें वह विजेता घोषित हुए।

लॉटरी जितने वाले 5 बच्चों के पिता बावा के मुताबिक, उन्होंने रविवार की शाम 5 बजे ही उनके घर के लेनदार एडवांस रुपए देने आने वाले थे, किन्तु उससे पहले ही उनकी किस्मत चमक उठी। उन्होंने कहा कि वह लॉटरी टिकट के नियमित खरीददार नहीं थे, किन्तु कर्ज के कारण उन्होंने इसे लिया था। आगे उन्होंने कहा कि, ‘मैं उस लॉटरी एजेंट को व्यक्तिगत तौर पर जानता हूँ, इसलिए जब वह मेरे घर से गुजरता था, तो वह मुझे कुछ टिकट देता था। यह विशेष टिकट मैंने काफी तनाव में खरीदा था, क्योंकि मुझे नहीं पता था कि मुझे क्या करना है।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper