घर में इन पौधों को लगाना माना जाता है बेहद शुभ, वातावरण में बनी रहती है सकारात्मकता

नई दिल्ली। घर में आमतौर पर पौधे लगाए ही जाते हैं. ये ना सिर्फ घर की खूबसूरती बढ़ाते हैं बल्कि वातावरण को भी अच्छा रखते हैं. लेकिन, वास्तु शास्त्र की बात करें तो इसमें घर की दशा और दिशा को लेकर कई तरह की सलाह दी जाती हैं जिनमें आमतौर पर पौधों का जिक्र भी मिलता है. घर में वास्तु शास्त्र के अनुसार लगाए गए पौधे (Plants) सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करते हैं. वहीं, मान्यतानुसार इन पौधों को देवी-देवताओं को प्रसन्न करने वाला भी कहते हैं. ऐसे में घर की छत या बाल्कनी में ये पौधे लगाना शुभ होता है. जानिए वे कौनसे पौधे हैं जिन्हें लगाने के बारे में सोचा जा सकता है.

धार्मिक मान्यताओं के आधार पर तुलसी के पौधे को तुलसी माता का दर्जा दिया जाता है. ना सिर्फ पूजा-पाठ में बल्कि औषधि के रूप में भी तुलसी का इस्तेमाल होता है. ऐसे में इस पौधे को घर में लगाना अच्छा मानते हैं. वास्तु के अनुसार तुलसी को घर की पूर्व दिशा में लगाना चाहिए.

घर के लिए शुभ या लकी प्लांट्स का जिक्र करने पर मनी प्लांट का नाम आ ही जाता है. मनी प्लांट को फेंग शुई में भी घर पर रखने की सलाह दी जाती है. इस पौधे को बाल्कनी में या फिर छत पर भी लगाया जा सकता है और यह देखने में सुंदर भी होता है.

घर पर बांस के पौधे को एशियाई संस्कृति में अच्छा माना जाता है और इसे अच्छे भाग्य का प्रतीक भी कहते हैं. चीन में खासतौर से इस पौधे को घर में रखने की मान्यता है. इसे सेहत, शांति और प्रेम बढ़ाने वाला पौधा भी कहा जाता है.

शनि देव को प्रसन्न करने के लिए इस पौधे को मान्यतानुसार घर में रखने की सलाह दी जाती है. इसे घर के मुख्य द्वार के बांई ओर लगाया जा सकता है. घर में सकारात्मकता लाने के लिए शमी का पौधा अच्छा है.

अशोक के पौधे को घर में पॉजीटिविटी लाने ही नहीं बल्कि नेगेटिविटी को दूर करने के लिए भी लगाया जाता है. इस पौधे को धार्मिक मान्यताओं के आधार पर भी शुभ माना जाता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper