चाणक्य नीति: बिजनेस में सफलता पाने के लिए चाणक्य के इन 5 चमत्कारी मंत्र का करें पालन

नई दिल्ली. जीवन में सफलता और सुख पाने के लिए व्यक्ति खूब मेहनत करता है. लेकिन कई बार मेहनत के बावजूद व्यक्ति को सफलता नहीं मिल पाती. वहीं, कुछ लोग कम मेहनत के बावजूद सफलता आसानी से पा लेते हैं. ऐसा माना जाता है कि व्यक्ति को जीवन में असफलता पूरी जानकारी और सही मार्गदर्शन न मिल पाने के कारण मिलती है. ऐसे में व्यक्ति के जीवन में चाणक्य की नीति शास्त्र सबसे ज्यादा काम आता है. आचार्य की नीतियो का पालन करके व्यक्ति जीवन में सफलता हासिल कर सकता है. आइए जानते हैं सफलता पाने के लिए आचार्य के 5 मंत्रों के बारे में.

किसी भी कार्य में सफलता पाने का सबसे अहम मंत्र समय है. व्यक्ति को किसी भी नए काम की शुरुआत समय को देखते हुए करनी चाहिए. उस काम को शुरू करने का वे सही समय है या नहीं. अगर वक्त अच्छा चल रहा है, तो कुछ नया करें.वहीं बुरे वक्त में धैर्य से काम ले. नहीं तो व्यक्ति की पूरी मेहनत पर पानी फिर जाता है.

चाणक्य के अनुसार व्यक्ति को दोस्त और दुश्मन में फर्क करना आना चाहिए. चाणक्य का कहना है कि अक्सर लोग दुश्मनों से तो सावधान हो जाते हैं. लेकिन दोस्त के रूप में साथ रहे दुश्मन से धोखा खा जाते हैं. ऐसे में अगर आपने दोस्त के रूप में दुश्मन से मदद मांग ली तो आपकी सारी मेहनत बेकार हो जाएगी.

आचार्य चाणक्य का कहना है कि किसी भी व्यक्ति में जानकारी का अभाव व्यक्ति की सबसे बड़ी कमजोरी है. किसी भी कार्य की शुरुआत करने से पहले उसकी सही जानकारी, स्थान, कार्य आदि के बारे में अच्छे से जान लेना चाहिए. ऐसा करने से सफलता 100 प्रतिशत आपके हाथ आती है.

सफलता पाने का चौथा मंत्र है कि व्यक्ति को अपनी आय और व्यय के बारे में पूरी जानकारी होना. व्यक्ति को आय से ज्यादा भूलकर भी नहीं खर्च करना चाहिए. बचत करने की आदत बनाए रखें क्योंकि बुरे समय में यही काम आता है.

चाणक्य का कहना है कि व्यक्ति को हमेशा अपनी ताकत बढ़ाने पर जोर देना चाहिए. और उसी के हिसाब से काम करना चाहिए. क्योंकि क्षमता के हिसाब से ज्यादा काम करने पर व्यक्ति को असफलता ही हाथ लगती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper