मनोरंजन

जब एक हजार लोगों से पिट रहे थे अजय देवगन, पिता वीरू ने ऐसे बचाई थी सिंघम की जान

मुंबई. बॉलीवुड एक्टर अजय देवगन के पिता वीरू देवगन किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। वीरू इंटस्ट्री के जाने माने स्टंट और एक्शन कोरियोग्राफर थे। 27 मई साल 2019 में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए पूरा बॉलीवुड पहुंचा था। अजय अपने पिता के बेहद करीब थे।

एक्टर किसी न किसी खास मौके पर अपने पिता से जुड़ी बातें शेयर करते हैं। ऐसा ही एक किस्सा है, जब उनके पिता ने उन्हें 1000 लोगों से बचाया था। जी हां, एक इंटरव्यू के दौरान एक्टर ने खुलासा किया था कि किस तरह उनके पिता वीरू ने उनकी जान बचाई थी।

दरअसल,अजय ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उन्हें कई बार पब्लिक में मार पड़ी है। एक बार तो 20-25 लोगों ने मिलकर उन्हें मारा था। इस घटना में उनके साथ बॉलीवुड फिल्म मेकर साजिद खान भी थे। किस्सा साझा करते हुए उन्होने बताया था कि अजय की एक सफेद जीप थी जिसमें हम सब घूमते थे।

हॉलिडे होटल के करीब एक पतली गली थी वहां हम गए तो जीप के सामने एक बच्चा पतंग के पीछे भागते हुए अचानक सामने आ गया। अजय ने फुल स्पीड में ब्रेक लगाए। गलती अजय की बिल्कुल भी नहीं थी। बच्चे को लगी नहीं, लेकिन वह डर गया और रोने लगा। बच्चा रोने लगा तो आसपास से लोग वहां आ गए। पता नहीं कहां से करीब 1000 लोग वहां इकट्ठा हो गए और हमें घेर लिया।

हम सब डर गए थे। हम समझाने की कोशिश कर रहे थे कि बच्चा अचानक सामने आया और उसे लगी भी नहीं है, लेकिन वह लोग चिल्लाने लगे कि उतरो-उतरो तुम अमीर लोग गाड़ी तेज चलाते हो। हमें पता नहीं चला और हमारे सिर पर मारना शुरू कर दिया गया।

इसके बाद दस मिनट में यह बात अजय के पिता तक पहुंच गई और वीरू जी वहां पर 150-200 फाइटर्स लेकर आ गए। इसके बाद, जो हुआ वो फिल्म के किसी सीन जैसा था । उन्होंने चिल्लाया कि मेरे बेटे को किसने हाथ लगाया । उनके चिल्लाने पर सब चुप हो गए। पूरा एरिया चुप हो गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper