जम्मू-कश्मीर पुलिस के शहीदों के नाम पर रखा गया 132 स्कूल, कॉलेज और सड़कों का नाम

श्रीनगर । जम्मू-कश्मीर में 132 स्कूलों-कॉलेजों और सड़कों का नाम जम्मू-कश्मीर पुलिस के शहीदों के नाम पर रखा गया है। केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन ने यूनियन टेरिटरी की सुरक्षा और विकास के लिए असाधारण योगदान के सम्मान और स्वीकृति के प्रतीक के रूप में 199 स्कूलों, कॉलेजों और सड़कों का नामकरण प्रतिष्ठित हस्तियों और शहीद नायकों के नाम पर करने की घोषणा की थी।

आदेश के अनुसार, दो स्कूल शहीद उपाधीक्षकों के नाम पर, एक शहीद निरीक्षक के नाम पर, आठ शहीद उप निरीक्षकों के नाम पर, चार शहीद एएसआई के नाम पर, सात शहीद हेड कांस्टेबल के नाम पर, 21 शहीद एसजीसीटी के नाम पर, 47 शहीद जवानों के बाद तीन शहीद अनुयायियों नाम पर और 41 शहीद विशेष पुलिस अधिकारियों के नाम पर रखे गए हैं, जिन्होंने लोगों के हितों की रक्षा और सुरक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दी।

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने कहा कि यह सरकार की एक अद्भुत पहल है जो यहां आतंकवाद से लड़ने वाली ताकतों का मनोबल बढ़ाने का काम करेगी।

उन्होंने कहा कि इस पहल से स्कूली बच्चे शहीदों के सर्वोच्च बलिदान के बारे में जानेंगे। राष्ट्र की संप्रभुता और अखंडता की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति देने वाले वीर हमेशा अमर रहेंगे। यह पहल शहीदों के परिवार के सदस्यों को खास एहसास कराएगी और शहीदों के लिए चिरस्थायी श्रद्धांजलि के रूप में कार्य करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper