जयपुर की इस लड़की के कारनामे से खुश हुआ WhatsApp, इनाम में दे दिए इतने लाख रूपये

नई दिल्ली। टेक और दूसरी कंपनियां अपने वेबसाइट(Website) या ऐप में खामी खोजने वाले को इनाम देती रहती हैं. इसके लिए कंपनी का Bounty प्रोग्राम होता है. अब एक भारतीय लड़की को WhatsApp ने इनाम दिया है. ये इनाम WhatsApp में एक खामी का पता लगाने पर दिया गया है.

WhatsApp के लास्ट सीन फीचर में खामी थी. जिस वजह से My Contacts Except के लिए लास्ट सीन प्राइवेसी सेट होने के बाद भी यूजर का लास्ट सीन रिसीवर को दिखाई देता था. इसको जयपुर की रहने वाली मोनिका अग्रवाल ने Meta Whitehat के जरिए रिपोर्ट किया.

मोनिका की इस रिपोर्ट को कंपनी ने सही पाया. इसके बाद उन्हें कंपनी की ओर से 1,500 डॉलर (लगभग सवा लाख रुपये) का इनाम दिया गया. आपको बता दें कि मोनिका पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं.

वो राजस्थान के जयपुर की रहने वाली है. उन्होंने सॉफ्टवेयर में दिलचस्पी होने की वजह से NIT जमशेदपुर से B.Tech की डिग्री पूरी. वो Swiggy और Traveloka जैसी कंपनियों में काम कर चुकी हैं. अभी मोनिका Uber के साथ सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर के तौर पर काम कर रही हैं.

बाउंटी प्रोग्राम के बारे में पूछ रहे हैं लोग
उन्होंने बताया कि WhatsApp से बाउंटी मिलने के बाद उन्हें काफी ज्यादा बधाईयां मिल रही हैं. कई लोग जिनकी इस क्षेत्र में दिलचस्पी है वो बाउंटी प्रोग्राम के बारे में भी उनसे पूछ रहे हैं.

जैसा की ऊपर बताया गया है कि टेक और दूसरी कंपनियां वेबसाइट या ऐप में खामी की रिपोर्ट करने वाले शख्स को इनाम देती है. इस तरह के बाउंटी प्रोग्राम में काफी लोग हिस्सा लेते रहते हैं. माइक्रोसॉफ्ट और दूसरी बड़ी टेक कंपनियों में भी खामी का पता लगाने पर कई भारतीयों को इनाम दिया जा चुका है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper