जुलाई में GST कलेक्शन पहुंचा 1.49 लाख करोड़ रुपए, 28 प्रतिशत का इजाफा

नई दिल्ली: वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह जुलाई 2022 में 28 प्रतिशत बढ़कर 1.49 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया। वित्त मंत्रालय की ओर से आज जारी आधिकारिक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई। विज्ञप्ति में कहा गया, “जुलाई 2022 में एकत्रित सकल जीएसटी राजस्व 1,48,995 करोड़ रुपये रहा, इसमें केन्द्रीय जीएसटी 25,751 करोड़ रुपये, राज्य जीएसटी 32,807 करोड़ रुपये, समन्वित जीएसटी का राजस्व 79,518 करोड़ रुपये है। आईजीएसटी में वस्तुओं के आयात पर एकत्रित कर का हिस्सा 41,420 करोड़ रुपये और 10,920 करोड़ रुपए उपकर है। उपकर में वस्तुओं के आयातित वस्तुओं पर एकत्रित कर 995 करोड़ रुपये शामिल है।

इस साल जुलाई में वस्तुओं के आयात से अर्जित राजस्व पिछले साल की तुलना में 48 फीसदी अधिक रहा, जबकि घरेलू लेनदेन (सेवाओं के आयात सहित) पर जीएसटी राजस्व 22 फीसदी अधिक रहा। वित्त मंत्रालय ने कहा, “लगातार पांच महीनों से मासिक जीएसटी राजस्व 1.4 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहा है, जिसमें प्रत्येक माह में लगातार वृद्धि देखी गयी है। चालू वित्त वर्ष में जुलाई 2022 तक जीएसटी राजस्व में पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 35 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। मंत्रालय ने कहा कि राजस्व संग्रह में वृद्धि बेहतर अनुपालन, अर्थव्यवस्था की दशा सुधार तथा जीएसटी परिषद द्वारा उठाए गए विभिन्न कदमों से संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि आर्थिक दशा में सुधार के साथ साथ बेहतर रिपोर्टिंग का राजस्व वसूली का अनुकूल असर पड़ा है।

मंत्रालय ने बताया कि जून 2022 में 7.45 करोड़ के ई-वे बिल सृजित हुए, जो मई 2022 के 7.36 करोड़ की तुलना में मामूली अधिक रहे। उल्लखनीय है कि सरकार ने जुलाई के दौरान सीजीएसटी से 32,365 करोड़ रुपये, आईजीएसटी से एसजीएसअी से 26,774 करोड़ रुपये तय किए गए थे। नियमित निपटान के बाद जुलाई 2022 में केंद्र को सीजीएसटी के लिए 58,116 करोड़ रुपये और राज्यों को एसजीएसटी के लिए 59,581 करोड़ रुपये प्राप्त हुए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper