झाड़ू को लेकर रखे इन बातों का ध्यान, वरना हाथ से चली जाएगी मेहनत की कमाई

घर में रखी हर चीज आपना प्रभाव छोड़ती है. वे प्रभाव सकारात्मक और नकारात्मक कुछ भी हो सकते हैं. हर व्यक्ति की इच्छा होती है कि उसके aघर में मां लक्ष्मी का वास रहे. धन दौलत से भरपूर रहे. लेकिन कई बार व्यक्ति सब चीजों का ध्यान रखने के बावजूद वो चीजें हासिल नहीं कर पाता, जो वे चाहता है. ऐसे में वास्तु दोष भी कारण होते हैं. जिन्हें अकसर हम नजरअंदाज करते रहते हैं.

वास्तु में झाड़ू पर भी विशेष जोर दिया गया है. घर में झाड़ू को लेकर कुछ नियम बताए गए हैं. अगर व्यक्ति इन नियमों का पालन नहीं करता, तो मां लक्ष्मी घर से रुष्ट होकर चली जाती हैं. साथ ही, व्यक्ति को दरिद्रता का सामना करना पड़ता है. आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ नियमों के बारे में.

वास्तु के अनुसार रखें इन बातों का ध्यान
वास्तु के अनुसार झाड़ू को कभी खड़ा हुआ न रखें. मान्यता है कि खड़ी झाड़ू अपशगुन का कारण बनती है. इसलिए झाड़ू को हमेशा लेटा कर ही रखें.

ऐसी भी मान्यता है कि झाड़ू को किचन में रखने से बचें. ऐसा करने से घर में अन्न की कमी होती है. साथ ही, घर के सदस्यों के स्वास्थय पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है.

वास्तु जानकारों का कहना है कि घर में झाड़ू को धन की तरह ही छिपाकर रखना चाहिए. खुले में रखना जहां अशुभ होता है, वहीं लोगों का ध्यान भी जाता है. कहते हैं कि झाड़ू को हमेशा ऐसी जगह रखें जहां दूसरों का ध्यान न जाए. कहते है कि खुली में रखी झाड़ू सकारात्मक ऊर्जा को बाहर करती है.

झाड़ू के टूट जाने पर इसे तुरंत बदल लेना चाहिए. कहते हैं कि टूटी हुई झाड़ू से घर की सफाई करने से कई तरह की परेशानियां आती हैं. इससे व्यक्ति को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है. पुरानी झाड़ू को निकालकर घर में शनिवार के दिन नई झाड़ू लानी चाहिए.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper