बिजनेस

ट्रेन में खाने को लेकर आया बड़ा अपडेट, रेल मंत्रालय ने जारी क‍िया ये नया आदेश

नई दिल्ली. ट्रेन में लंबे सफर के दौरान यात्र‍ियों के सामने अक्‍सर खाने-पीने की समस्‍या रहती है. यही कारण है कई बार लोगों को घर से बना खाना ले जाते हुए देखा जाता है. लेक‍िन जो क‍िसी कारणवश नहीं बना पाते तो उनका क्‍या? जी हां, शुद्ध शाकाहारी खाना खाने वालों के ल‍िए रेलवे की तरफ से नई व्‍यवस्‍था शुरू की गई है. अगर आपके साथ भी कुछ ऐसी ही परेशानी है तो यह खबर आपको जरूर खुश कर देगी. रेल मंत्रालय के नए आदेश के बाद अब सफर के दौरान यात्र‍ियों को पूरी तरह सात्‍व‍िक खाना म‍िल सकेगा.

यात्र‍ियों को सफर के दौरान सात्‍व‍िक खाना उपलब्‍ध कराने के ल‍िए भारतीय रेलवे की सब्‍स‍िड‍ियरी कंपनी आईआरसीटीसी ने इस्‍कॉन से हाथ म‍िलाया है. इसके तहत सात्‍व‍िक खाना खाने वाले यात्र‍ियों को इस्‍कॉन मंद‍िर के रेस्‍टोरेंट गोव‍िंदा से खाना मंगाकर उनकी सीट तक पहुंचाया जाएगा. आईआरसीटीसी और इस्‍कॉन के बीच हुए इस समझौते के तहत अभी द‍िल्‍ली के हजर‍त न‍िजामुद्दीन स्‍टेशन पर यह सर्व‍िस उपलब्‍ध है.

इस सुव‍िधा को शुरू करने के मौके पर रेलवे बोर्ड की तरफ से बताया गया क‍ि कुछ यात्री (जो सात्‍व‍िक खाना खाते हैं) ट्रेन में म‍िलने वाले खाने की शुद्धता को लेकर शक करते हैं. ऐसा अक्‍सर लंबे सफर पर जाने वाले यात्र‍ियों के साथ देखने में आया है. ऐसे बहुत से यात्री हैं जो प्‍याज और लहसुन तक नहीं खाते. वो यात्री पेंट्री कार से म‍िलने वाले खाने से परहेज करते हैं. लेक‍िन इस सुव‍िधा के शुरू होने के बाद ऐसे यात्र‍ियों को परेशानी नहीं होगी.

आप या आपका पर‍िवार ट्रेन के सफर के दौरान सात्‍व‍िक भोजन लेना चाहते हैं तो आपको आईआरसीटीसी की ई-कैटर‍िंग वेबसाइट या फूड ऑन ट्रैक एप पर खाना बुक‍ करना होगा. इसके ल‍िए आपको ट्रेन छूटने से कम से कम दो घंटे पहले पीएनआर नंबर के साथ ऑर्डर करना होगा. ऑर्डर फाइनल होने के बाद खाना आपकी सीट पर पहुंच जाएगा. गोव‍िंदा रेस्‍टोरेंट की तरफ से म‍िलने वाले खाने में यात्र‍ियों को पुरानी द‍िल्‍ली की वेज ब‍िरयानी, डीलक्‍स थाली, महाराजा थाली, दाल मक्‍खनी, पनीर से बनी ड‍िशेज, नूडल्‍स समेत अन्‍य सात्‍व‍िक खाना म‍िलेगा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper