ठंड में धूप न निकलने के कारण सूख नहीं रहे हैं कपड़े, तो अपनाएं ये शानदार टिप्स

नई दिल्ली. सर्दियों के सीजन की शुरुआत हो गई है। धीरे-धीरे ठंड का प्रभाव काफी बढ़ने लगा है। ठंड के सीजन में धूप काफी कम निकलती है। ऐसे में इस दौरान कपड़ों को सुखाना काफी मुश्किल हो जाता है। सर्दियों के सीजन में कम धूप निकलने की वजह से कपड़ों को सूखने में काफी समय लगता है। कई बार हमको किसी जरूरी जगह पर जाना होता है। ऐसे में कपड़ों के न सूखने की वजह से हम काफी परेशान हो जाते हैं। वहीं ठंड के सीजन में जिन कपड़ों को हम पहनते हैं, वो काफी मोटे होते हैं। इस कारण इन कपड़ों को सूखने में समय की काफी ज्यादा खपत होती है। अगर सर्दियों के सीजन में आप भी कपड़ों के देरी से सूखने की समस्या से परेशान हैं। ऐसे में आज हम आपको कुछ खास टिप्स के बारे में बताने जा रहे हैं। इन टिप्स को अपनाकर आप ठंड के मौसम में अपने कपड़ों को सुखा सकते हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में –

ठंड के मौसम में आपको एक साथ सभी कपड़ों को नहीं धोना चाहिए। आप जब अपने कपड़ों को धोएं। ऐसे में आपको पानी को अच्छे से निचोड़ लेना चाहिए।

इस बात का खास ध्यान रखें कि कपड़ों में ज्यादा पानी न रह जाए। इसके बाद उन कपड़ों को रात में हैंगर में करके पंखे के नीचे रख सकते हैं। इससे रात में आपके कपड़े आसानी से पंखे के नीचे सूख जाएंगे।

आपको सर्दियों के सीजन में एक के ऊपर एक कपड़ों को रखकर नहीं सुखाना चाहिए। ठंड के सीजन में ज्यादा तेज धूप नहीं निकलती है। ऐसे में दो कपड़े एक साथ नहीं सूख पाते हैं।

वहीं अगर आपको कहीं पर जल्दी जाना है और आपके कपड़े हल्के सूखे हुए हैं। इस स्थिति में आप उन कपड़ों पर आयरन कर सकते हैं। ऐसा करने पर वो कपडे़ पहनने लायक हो जाते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper