तेजपत्ता से मिलेगा जोड़ों के दर्द में आराम, जानिए कैसे करें इसका इस्तेमाल

नई दिल्ली: यूरिक एसिड शरीर में मौजूद टॉक्सिन है जो सभी लोगों की बॉडी में बनते हैं। जब किडनी यूरिक एसिड को बाहर नहीं निकाल पाती तो यूरिक एसिड जोड़ों और घुटनों में क्रिस्टल के रूप में जमा होने लगता है। खाने में ज़्यादा प्यूरिन होने और ड्रिंक्स का ज़्यादा सेवन करने से खून में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ने लगता हैं और इस वजह से इंसान के जोड़ो में तकलीफ होने लगती है।

ये तकलीफ वक्त के साथ इतनी ज़्यादा बढ़ जाती है कि इंसान ढंग से उठ बैठ भी नहीं पाता है। ऐसे में यूरिक एसिड को कम करने के लिए आप किचन में मौजूद तेजपत्ता का इस्तेमाल कर सकते हैं। ये यूरिक एसिड को कंट्रोल करने में बेहद असरदार है। तेजपत्ते का रोज़नन सेवन कर आप यूरिक एसिड को कंट्रोल कर सकते हैं। चलिए आपको बताते हैं तेजपत्ते से यूरिक एसिड कैसे कम किया जाये।

जिन लोगों का यूरिक एसिड हाई रहता है वो तेज पत्ते की चाय का सेवन करें। इस चाय को बनाने के लिए आप 10-20 तेजपत्ता लें और उसे अच्छी तरह से वॉश कर लें। एक पेन में तीन गिलास पानी लें और वॉश किए हुए तेज पत्ता को उसमें डालें। पेन को गैस पर रखें और तब तक पकाएं जब तक पानी एक गिलास नहीं रह जाए। इस पानी को गुनगुना करें और दिन में दो बार सेवन करें। तेजपत्ता की चाय का सेवन करने से आपका यूरिक एसिड कंट्रोल रहेगा।

यह जानकारी केवल आयुर्वेद के नुस्खों के आधार पर बताई गई है। ऐसी समस्या होने पर डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper